बुधवार, 29 जुलाई, 2015 | 15:17 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
सुप्रीम कोर्ट ने फैसला दिया, राजीव गांधी के हत्यारों को फांसी नहीं होगी, तीनों हत्यारों को उम्रकैद मिलीछत्तीसगढ़ में आयकर विभाग की छापेमारी, 120 अधिकारियों की टीम मौके पर, पॉवर प्लांट कारोबारियों के यहां छापेमारी
नेशनल कांफ्रेंस-कांग्रेस गठबंधन ने जीता जम्मू-कश्मीर विधान परिषद चुनाव
श्रीनगर, एजेंसी First Published:06-12-2012 02:19:26 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

सत्तारूढ़ नेशनल कांफ्रेंस-कांग्रेस गठबंधन ने पंचायत कोटा के तहत हुए जम्मू-कश्मीर विधान परिषद चुनाव की सभी चार सीटों पर जीत दर्ज की है। विधान परिषद की इन चारों आरक्षित सीटों के लिए सोमवार को मतदान हुए थे। यह मतदान 38 साल के लंबे अंतराल के बाद हुए थे।

नेशनल कांफ्रेंस के अली मोहम्मद डार ने पीडीपी के पीर मोहम्मद हुसैन को 2600 से ज्यादा मतों के अंतर से हराकर के-1 सीट पर जीत दर्ज की। डार को 8586, जबकि हुसैन को 5911 मत मिले। के-2 सीट के लिए कांग्रेस के गुलाम नबी मोंगा ने पीडीपी के यासिर रेशी को 2500 मतों के अंतर से हराया। मोंगा को 8659, जबकि रेशी को 6094 मत मिले।

जे-1 सीट के लिए कांग्रेस के श्याम लाल ने नजदीकी प्रतिद्वंदी, पीडीपी के गुरमीत सिंह को 7034 मतों के भारी अंतर से हराया। कुल 14874 मतों में से श्याम लाल को 9123, जबकि सिंह को 2089 मत मिले। वहीं जे-2 सीट के लिए नेशनल कांफ्रेस के शहनाज गनई ने पीडीपी के वेद प्रकाश गुप्ता को 6917 मतों के अंतर से हराया। कुल 14812 मतों में से गनई को 9070, जबकि गुप्ता को 2153 मत मिले।

चुनावी मैदान में कुल 37 उम्मीदवार खड़े थे। सत्तारूढ़ गठबंधन और विपक्षी पार्टी पीडीपी ने इन चुनावों के लिए पंचों और सरपंचों के बीच जमकर प्रचार किया था। मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, उप मुख्यमंत्री तारा चंद और कई वरिष्ठ नेताओं ने सत्तारूढ़ गठबंधन के लिए प्रचार किया था, जबकि पीडीपी नेता मुफ्ती मोहम्मद सईद, पार्टी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती और मुजफ्फर हुसैन बेग समेत कई वरिष्ठ नेताओं ने अपनी पार्टी के लिए प्रचार किया था।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingप्रतिबंध हटाने के लिए बीसीसीआई से संपर्क करूंगा: श्रीसंत
जब वह तिहाड़ जेल में था तो वह आत्महत्या के बारे में सोच रहा था लेकिन तेज गेंदबाज एस श्रीसंत को अब उम्मीद बंध गई है कि वह वापसी कर सकते हैं और खुद पर लगे प्रतिबंध को हटाने के लिये वह बीसीसीआई से संपर्क करेंगे।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड