बुधवार, 01 जुलाई, 2015 | 01:13 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    'मेंढक' को है आपकी दुआओं की जरूरत, कोमा में है आपका चहेता किरदार सुनंदा पुष्कर केस में शशि थरूर का लाइ डिटेक्टर टेस्ट कराने की तैयारी में जुटी पुलिस शर्मनाक: सीरिया में आईएस ने दो महिलाओं का सिर कलम किया उपचुनाव में रिकॉर्ड डेढ लाख वोटों के अंतर से जीतीं जयलिलता, सभी विरोधी उम्मीदवारों की जमानत जब्त धौलपुर महल विवाद: कांग्रेस ने राजे के खिलाफ नए सबूत पेश किए, भाजपा बोली, छवि बिगाड़ने की साजिश ट्विटर पर जॉन ने खोली 'वेलकम बैक' की रिलीज़ डेट, आप भी जानिए बांग्लादेश में उड़ा टीम इंडिया का मजाक, इन क्रिकेटरों को दिखाया आधा गंजा गांगुली ने टीम इंडिया में हरभजन की वापसी का किया स्वागत रोहित समय के पाबंद हैं, उनके साथ काम करना मुश्किल: शाहरूख खान तेंदुलकर ने अजिंक्य रहाणे को दीं शुभकामनाएं
कभी कमल को केशुभाई व मोदी ने मिलकर खिलाया था
गांधीनगर, एजेंसी First Published:20-12-12 03:26 PMLast Updated:20-12-12 08:43 PM
Image Loading

लगातार तीसरी बार जीत का परचम लहराकर नरेंद्र मोदी ने बेशक गुजरात के सबसे कद्दावर नेता के रूप में खुद को स्थापित किया है, लेकिन एक दौर था जब केशुभाई पटेल और शंकर सिंह बाघेला के साथ मिलकर इस त्रिमूर्ति ने राज्य में भाजपा की नीव रखी थी और पार्टी संगठन को एक मजबूत आधार दिया था।
 
केशुभाई पटेल राज्य के गुजरात में भाजपा के प्रथम मुख्यमंत्री रहे हैं लेकिन अब वह इस पार्टी में नहीं है। कभी राज्य भाजपा की त्रिमूर्ति में से एक पटेल ने अब 84 साल की उम्र में अपनी नई पार्टी गुजरात परितर्वन पार्टी बना ली है। इस त्रिमूर्ति के दो अन्य नेताओं में मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी और शंकर सिंह वाघेला शामिल हैं। इन्ही तीन नेताओं ने गुजरात में भाजपा की नीव रखी थी।

कालेज के दिनों में मोदी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ [आरएसएस] के सक्रिय कार्यकर्ता थे। गुजरात में भाजपा की नींव डालने में मोदी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। शंकरसिंह बाघेला और केशुभाई पटेल के साथ-साथ मोदी ने भी राज्य में भाजपा को गांव-गांव तक पहुंचाया। वाघेला और मोदी एक दूसरे के पूरक माने जाते थे। वाघेला एक जननेता के रूप में जाने जाते थे, जबकि मोदी पर्दे के पीछे संगठन का काम करते थे। किन्तु पटेल की तरह वाघेला भी अब भाजपा में नहीं है।

पटेल को पार्टी ने 2001 में मुख्यमंत्री पद से हटाया था। वह आज मोदी के कट्टर विरोधी है। पिछले 10 वर्ष तक मौन रहे पटेल ने इस बार चुनाव से पूर्व अपना नया दल बनाकर 182 विधानसभा सीटों में से 175 में अपने प्रत्याशी खडे़ किए। वह राज्य की प्रभावशाली पटेल जाति के नेता है। पटेल ने स्वयं इस बार बिसाबदर विधानसभा सीट से चुनाव लडा़।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड