रविवार, 01 फरवरी, 2015 | 18:42 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दिल्ली को आगे बढ़ाना है तो भाजपा को पूर्ण बहुमत दीजिए : मोदीजहां झुग्गी होगी वहीं पक्का मकान बनाएंगे : मोदीशहर में ट्रफिक की समस्या का समाधान किरण बेदी करा देंगी : मोदीगरीबों को गरीब रखकर राजनीति हुई : मोदीचुनाव भी विकास के मु्द्दे पर लड़ता हूं और सरकार भी विकास के मुद्दे पर चलाता हूं : मोदीमेरे पास किताबी ज्ञान नहीं, लोगों की शक्ति की पहचान है : मोदीटीवी में जगह से सरकार नहीं चलती : मोदीयुवा देश का लाभ लेना मुझे आता है : मोदीअगर नसीबवाले से आपका पैसा बचता है तो बदनसीब की क्या जरूरत : मोदीमेरे नसीब से तेल-पेट्रोल सस्ता हुआ तो क्या बुरा है : मोदीआपने जो प्यार दिया अब मुझे वह ब्याज समेत लौटाना है : मोदीआंदोलन की आदत रखने वालों को सिर्फ टीवी में जगह चाहिए : मोदीदिल्ली को जिम्मेवार सरकार चाहिए : मोदीभागने से काम नहीं चलता, सरकार चलाना बड़ी जिम्मेदारी : मोदीरोज विरोधी सुबह उठकर सोचते हैं कि आज कौन सा झूठ फैलाया जाए : मोदीकांग्रेस-आप में झूठ बोलने की होड़ : मोदीकांग्रस-आप ने कुर्सी के लिए सौदा किया : मोदीहम समस्या दूर करने की सोचते हैं : मोदीदिल्ली से पानी का वादा पूरा किया : मोदीदिल्ली के द्वारका में पीएम मोदी ने रैली के दौरान कहा, मैं असली दिल्लीवाला हो गया हूंदिल्ली के द्वारका में पीएम मोदी की रैलीबीजेपी नफरत फैला रही है : सोनियाबीजेपी ने झूठे वादे किए, किसानों के सपने का क्या हुआ, काला धन वापस कहां आया : सोनियाहमने झुग्गीवालों को घर दिये : सोनियादिखावे की राजनीति करने वालों से सतर्क रहने की जरूरत : सोनियाबिहार के फारबिरगंज में काले झंडों के साथ अल्पसंख्यक समुदाय के हजारों लोगों ने किया प्रदर्शन, फांस की शार्ली एब्दो पत्रिका द्वारा पैगंबर मोहम्मद साहब का कार्टून छापने के विरोध में किया प्रदर्शन।
कभी कमल को केशुभाई व मोदी ने मिलकर खिलाया था
गांधीनगर, एजेंसी First Published:20-12-12 03:26 PMLast Updated:20-12-12 08:43 PM
Image Loading

लगातार तीसरी बार जीत का परचम लहराकर नरेंद्र मोदी ने बेशक गुजरात के सबसे कद्दावर नेता के रूप में खुद को स्थापित किया है, लेकिन एक दौर था जब केशुभाई पटेल और शंकर सिंह बाघेला के साथ मिलकर इस त्रिमूर्ति ने राज्य में भाजपा की नीव रखी थी और पार्टी संगठन को एक मजबूत आधार दिया था।
 
केशुभाई पटेल राज्य के गुजरात में भाजपा के प्रथम मुख्यमंत्री रहे हैं लेकिन अब वह इस पार्टी में नहीं है। कभी राज्य भाजपा की त्रिमूर्ति में से एक पटेल ने अब 84 साल की उम्र में अपनी नई पार्टी गुजरात परितर्वन पार्टी बना ली है। इस त्रिमूर्ति के दो अन्य नेताओं में मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी और शंकर सिंह वाघेला शामिल हैं। इन्ही तीन नेताओं ने गुजरात में भाजपा की नीव रखी थी।

कालेज के दिनों में मोदी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ [आरएसएस] के सक्रिय कार्यकर्ता थे। गुजरात में भाजपा की नींव डालने में मोदी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। शंकरसिंह बाघेला और केशुभाई पटेल के साथ-साथ मोदी ने भी राज्य में भाजपा को गांव-गांव तक पहुंचाया। वाघेला और मोदी एक दूसरे के पूरक माने जाते थे। वाघेला एक जननेता के रूप में जाने जाते थे, जबकि मोदी पर्दे के पीछे संगठन का काम करते थे। किन्तु पटेल की तरह वाघेला भी अब भाजपा में नहीं है।

पटेल को पार्टी ने 2001 में मुख्यमंत्री पद से हटाया था। वह आज मोदी के कट्टर विरोधी है। पिछले 10 वर्ष तक मौन रहे पटेल ने इस बार चुनाव से पूर्व अपना नया दल बनाकर 182 विधानसभा सीटों में से 175 में अपने प्रत्याशी खडे़ किए। वह राज्य की प्रभावशाली पटेल जाति के नेता है। पटेल ने स्वयं इस बार बिसाबदर विधानसभा सीट से चुनाव लडा़।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड