शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 19:21 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    पार्टी में सभी तबकों को शामिल किया जाना चाहिए: मोदी  मथुरा में भाजपा युवा मोर्चा का पुलिस पर पथराव, दर्जनों जख्मी मुख्यमंत्री कार्यालय में बदलाव करना चाहते हैं फड़नवीस  चीन ने पूरा किया चांद से वापसी का पहला मिशन  आज चार राज्य मना रहे हैं स्थापना दिवस  जम्मू-कश्मीर में बदले जा सकते हैं मतदान केंद्र 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' का वीडियो यूट्यूब पर हिट दिग्विजय सिंह की सलाह, कांग्रेस की कमान अपने हाथ में लें राहुल गांधी 'दिल्ली को फिर केंद्र शासित बनाने की फिराक में भाजपा' जनता सब देख रही है, बीजेपी हल्के में न लेः उद्धव ठाकरे
मोदी ने लगायी हैट्रिक, भाजपा ने गंवाया हिमाचल
अहमदाबाद, एजेंसी First Published:20-12-12 09:26 PMLast Updated:21-12-12 01:34 AM
Image Loading

गुजरात विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन करते हुए नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा ने जीत की हैट्रिक बनाई, लेकिन हिमाचल प्रदेश उसके हाथ निकल गया, जहां वीरभद्र सिंह के सतत अभियान की बदौलत कांग्रेस ने बहुमत हासिल किया।

गुजरात में इस जीत के साथ ही नरेन्द्र मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में अपनी मजबूत दावेदारी पेश की है।

भाजपा ने गुजरात में लगातार पांचवीं बार जीत दर्ज की है। मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में यह तीसरी जीत है । प्रदेश में भाजपा ने 115 सीटों पर जीत दर्ज की जो 2007 के विधानसभा चुनाव परिणाम से दो सीटें कम है। कांग्रेस को 61 सीटों पर जीत हासिल हुई, जो पिछले चुनाव की तुलना में दो सीटें अधिक है।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को दो सीटें मिलीं, जबकि जद यू को एक सीट पर जीत हासिल हुई। केशुभाई पटेल की अगुवाई वाली गुजरात परिवर्तन पार्टी को केवल तीन सीटों पर जीत मिली, जिसके बारे में कहा जा रहा था कि यह पार्टी भाजपा को काफी नुकसान पहुंचा सकती है।

अगले लोकसभा चुनाव के लिए प्रधानमंत्री पद के मजबूत उम्मीदवार माने जा रहे 62 वर्षीय मोदी ने इस जीत का श्रेय छह करोड़ गुजरातियों और देश के उन सभी लोगों को दिया है जो सुशासन एवं विकास को बढ़ावा देते हैं।

2002 के गोधरा बाद दंगों के लिए माफी मांगने से इंकार करने वाले मुख्यमंत्री ने आज जीत के बाद कहा कि अगर उनसे कोई गलती हुई हो तो इसके लिए वह प्रदेश के छह करोड़ गुजरातियों से माफी मांगते हैं।

जीत के बाद करीब 45 मिनट तक अपने भाषण के दौरान उन्होंने अपने समर्थकों से कहा कि गलती से भी भविष्स में कोई गलती नहीं होगी। मोदी ने हालांकि भविष्य की राजनीतिक योजना के बारे में कोई संकेत नहीं दिया। जब लोग प्रधानमंत्री, प्रधानमंत्री के नारे लगाने लगे तो मोदी ने कहा कि वह 27 दिसंबर को दिल्ली जायेंगे और गुजरात में वह जो कुछ कर रहे हैं, वह मातृभूमि की सेवा ही है।


मोदी ने कहा कि न तो रुकूंगा और थकूंगा, क्योंकि मुझे आपका सपना पूरा करना है। भाजपा के दो सांसद स्मृति ईरानी और राम जेठमलानी ने खुले तौर पर भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में मोदी का समर्थन किया है, लेकिन कई पार्टी नेता इस प्रश्न को टाल गए।

भाजपा के मुख्य प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मोदी पार्टी के लिए हमेशा ही महत्वपूर्ण नेता रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी वंशवाद से नहीं चलती जिसका नेता कोई युवराज होता है। हम पूरी तरह लोकतांत्रिक तरीके से काम करते हैं।

हिमाचल प्रदेश में जीत से कांग्रेस को राहत मिली जहां पार्टी ने सत्तारूढ़ भाजपा से सत्ता छीनी। प्रदेश की 68 सीटों में से कांग्रेस ने 36 सीटों पर जीत दर्ज की और बहुमत के लिए जरूरी 35 सीट से एक सीट अधिक हासिल की।

राज्य में भाजपा को 26 सीटों पर जीत हासिल हुई, जबकि निर्दलीय पांच सीटों पर और हिमाचल लोकहित कांग्रेस एक सीट पर विजयी रही। 2007 के चुनाव में भाजपा को 41 सीटें मिली थी जबकि कांग्रेस को 23 सीटों पर जीत हासिल हुई थी।

पांच बार हिमाचल के मुख्यमंत्री रहे और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष 78 वर्षीय वीरभद्र सिंह ने शिमला ग्रामीण सीट पर जीत दर्ज की। वीरभद्र ने इस सीट पर अपने निकटतम प्रतिद्वन्द्वी भाजपा के ईश्वर रोहल को 20 हजार मतों से पराजित किया। उन्हें प्रदेश के मुख्यमंत्री पद का सशक्त दावेदार माना जा रहा है।

चुनाव परिणाम से ऐसा प्रतीत होता है कि उनसे जुड़े सीडी प्रकरण का भी कोई प्रभाव नहीं पड़ा जिसके कारण उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा देना पड़ा था। भाजपा ने उन पर केंद्र में इस्पात मंत्री रहते भ्रष्टाचार करने के आरोप लगाए थे। हमीरपुर सीट पर मुख्यमंत्री प्रेमकुमार धूमल ने कांग्रेस के नरिन्दर ठाकुर को 9500 मतों से पराजित किया। उनके मंत्रिमंडल के चार सहयोगी नरिन्दर बराग्टा, खिमी राम, कृष्ण कुमार और रोमेश धवना हालांकि चुनाव हार गए।

 
 
 
टिप्पणियाँ