मंगलवार, 07 जुलाई, 2015 | 12:26 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
बिहार एमएलसी चुनाव: 10 बजे तक पूरे प्रदेश में 13 प्रतिशत मतदानमधुबनी में 11 बजे तक सिर्फ 16 प्रतिशत मतदान की खबर।एएमयू मेडिकल प्रवेश परीक्षा का रिजल्ट आज >> बारिश के चलते अभी भी रुकी है केदारनाथ यात्रा >> कानपुर देहात के गजेनर इलाके में तीन की हत्या >> पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आज कन्नौज में >> बनारस में विकास योजनाओं की जमीनी हकीकत देखने आज पहुंचेगी केंद्र के शीर्ष अफसरों की टीमविधानपरिषद चुनाव: वोटिंग के लिए मंत्री रमई राम और सांसद अनिल साहनी पहुंचे।दरौंदा में 10 बजे तक 325 में से 100 वोट पड चुके थे।सीवान में एमएलसी के लिए 10 बजे तक 12 प्रतिशत तक मतदान हो चुका है।सांसद ओम प्रकाश यादव और विधायक व्यास देव प्रसाद ने सीवान बूथ पर वोट डाला।बिहार में मानसून सक्रिय बारिश के आसारबिहार विधान परिषद की 24 सीटों के लिये मतदान शुरू
विधेयक का विरोध करते रहेंगे: मुलायम
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:19-12-12 05:12 PM

लोकसभा में बुधवार को सरकारी नौकरियों में पदोन्नति में आरक्षण संबंधी विधेयक को सदन में चर्चा के लिए रखे जाते समय घटे अप्रत्याशित घटना पर सपा अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने साफ किया कि उनकी पार्टी विधेयक का विरोध जारी रखेगी और जरूरत पड़ी तो संप्रग से समर्थन वापस लेने के बारे में भी विचार किया जाएगा।

केंद्रीय मंत्री वी नारायणसामी के हाथ से विधेयक छीने जाने के बाद सपा के यशवीर सिंह के साथ कांग्रेस के सदस्यों की कथित हाथापाई की घटना को निन्दनीय बताते हुए मुलायम ने संसद परिसर में संवाददाताओं से कहा कि सपा इस संविधान संशोधन विधेयक का लगातार विरोध करती रही है और करती रहेगी। इसके लिए वह गंभीर से गंभीर परिणाम भी भुगतने को तैयार है।

उन्होंने अपनी पार्टी के सांसद यशवीर को कांग्रेस के सदस्यों द्वारा अपमानित किये जाने और मारपीट करने का आरोप लगाते हुए कहा कि संसद में विधेयक का मसौदा छीने जाने की यह पहली घटना नहीं है। तीन बार तो हमने ऐसा होते देखा है।

यादव से जब कांग्रेस द्वारा इस मामले में लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार से सपा सदस्यों की शिकायत किये जाने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उनके हाथ में सरकार है। बहुमत है। वे जो चाहें मनमानी कर सकते हैं। लेकिन असली ताकत जनता के पास है।

सपा अध्यक्ष से जब संवाददाताओं ने पूछा कि उनकी पार्टी के बाहरी सहयोग के कारण भी संप्रग बहुमत में है तो क्या वह इस घटना के बाद समर्थन वापसी के बारे में सोचेंगे तो उन्होंने केवल इतना कहा कि उस पर भी विचार कर लेंगे। उन्होंने इस पूरे घटनाक्रम के पहले से तय होने के बसपा के आरोप को खारिज करते हुए इसे निराधार बताया।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड