शनिवार, 01 अगस्त, 2015 | 11:15 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अब याकूब की पत्नी को सांसद बनाने की मांग, सपा नेता ने लिखी चिट्ठी पापा बनने वाले हैं जुकरबर्ग, बेबी ने अंगूठा दिखाकर फेसबुक को किया LIKE कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने पूछा, क्या हॉटलाइन के जरिये आईएस से बात कर रहा है विदेश मंत्रालय EXCLUSIVE: देश में सबसे ज्यादा लापता हो रहे हैं यूपी के बच्चे 'हिंदू आतंकवाद' शब्द ने आतंक के खिलाफ जंग कमजोर की: राजनाथ चूहे के कारण बीच रास्ते से लौटा 200 यात्रियों वाला एयर इंडिया का मिलान जा रहा विमान भारत-बांग्लादेश सीमा समझौता: कहीं बेहतर जिंदगी की आस तो कहीं घर-बार छूटने का गम बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 23 रुपये 50 पैसे हुआ सस्ता, पेट्रोल और डीजल के दाम भी घटे लीबिया में आतंकी संगठन IS के चंगुल से 2 भारतीय रिहा, बाकी 2 को छुड़ाने की कोशिश जारी याकूब के जनाजे में शामिल लोगों को त्रिपुरा के गवर्नर ने बताया आतंकी
मोदी के खिलाफ टिप्पणियां अनुचित: सुप्रीम कोर्ट
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:02-01-2013 08:33:55 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

उच्चतम न्यायालय ने बुधवार को कहा कि न्यायाधीशों को किसी भी व्यक्ति के खिलाफ कठोर और असंयमित भाषा का इस्तेमाल और अपमानजनक टिप्पणियां नहीं करनी चाहिए। न्यायालय ने कहा कि न्यायाधीशों को शालीनता और संयम से काम लेना चाहिए।

न्यायमूर्ति बी एस चौहान और न्यायमूर्ति एफ एम इब्राहिम कलीफुल्ला की खंडपीठ ने कहा कि न्यायाधीशों को कठोर और असंयमित भाषा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, बल्कि उन्हें शालीनता और संयम का परिचय देना चाहिए, क्योंकि किसी भी व्यक्ति के खिलाफ उनकी कठोर और अपमानजनक टिप्पणियों को गलत और अनुचित तरीके से लिया जा सकता है और ऐसी स्थिति में वे अच्छाई की बजाय अधिक नुकसान करते हैं, जिससे अन्याय हो जाता है।

न्यायाधीशों ने गुजरात में लोकायुक्त की नियुक्ति के मामले में उच्च न्यायालय द्वारा मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के बारे में की गयी टिप्पणियों पर आपत्ति करते हुये यह टिप्पणी की।

शीर्ष अदालत ने कहा कि उच्च न्यायालय को संयम से काम लेना चाहिए था और सांवैधानिक प्राधिकारी के बारे में ऐसी टिप्पणियां नहीं करनी चाहिए थीं। उच्च न्यायालय ने कहा था कि मोदी ने लोकायुक्त की नियुक्ति के मामले में लघु सांवैधानिक संकट पैदा कर दिया था।

न्यायाधीशों ने कहा कि अदालतों को किसी भी व्यक्ति के खिलाफ अनावश्यक और अपमानजनक टिप्पणियां उस समय तक नहीं करनी चाहिए जब तक किसी मसले के निर्णय के दौरान ऐसा करना जरूरी नहीं हो। अदालतों को असंयमित भाषा का प्रयोग नहीं करना चाहिए और हमेशा ही न्यायिक मर्यादा बनाये रखना चाहिए।

 
 
 
अन्य खबरें
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingएशेज : तीसरे दिन ही ऑस्ट्रेलिया को हराकर इंग्लैंड ने 2-1 की बढ़त बनाई
इयान बेल के शानदार अर्धशतक की बदौलत इंग्लैंड ने शुक्रवार को तीसरे एशेज टेस्ट के तीसरे ही दिन चाय से पहले ऑस्ट्रेलिया को आठ विकेट से हराकर पांच मैचों की सीरीज में 2-1 की बढ़त बना ली।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड