शुक्रवार, 21 नवम्बर, 2014 | 13:56 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मैं झारखंड का भाग्य बदलने आया हूं: मोदीदेश विकास के रास्ते पर चल पड़ा है :मोदीमोदी : झारखंड में नदियां हैं पानी नहींमैं शौचालय बनाने वाला पीएम हूं : मोदीमोदी का बिहार के सीएम को जवाब, हमारे मंत्री से डरते हैंमोदी :जनता देती है तो छप्पर फाड़ कर और लेती है तो सब कुछ लूट लेती है। इसलिए सत्ता के नशे में डूबे लोगों को सचेत हो जाना चाहिए।लोकतंत्र में किसी का अहंकार नहीं चलता। लोकतंत्र में जनता ही सब कुछ होती है :मोदीमोदी : झारखंड नं 1 हो सकता है, एक बार सेवा का अवसर देंमोदी का शिबू सोरेन पर हमला, कहा बाप-बेटे से मुक्त करायेंझारखंड अमीर, यहां के लोग गरीब : मोदीमोदी ने कहा, आदिवासियों की बीमारी दूर करेंगेमोदी : केला उत्पादन पर ज़ोर देंगेहवा के रुख का पता चल रहा है : मोदीडालटनगंज में लोकसभा चुनाव से ज्यादा भीड़ : मोदीमोदी ने कहा, ये धरती बिरसा मुंडा की धरती है, तपस्वी की धरती को नमनझारखंड में चुनावी सभा को संबोधित करने डालटनगंज पहुंचे पीएम मोदी
दुनिया की आबादी से ज्यादा हो जाएंगे मोबाइल नम्बर
जेनेवा, एजेंसी First Published:11-12-12 07:00 PM
Image Loading

मोबाइल फोन सेवा के विस्तार की मौजूदा गति के मुताबिक वर्ष 2014 तक दुनिया की आबादी से अधिक सेल फोन नम्बर हो जाएंगे। यह बात इंटरनेशनल टेलीकम्युनिकेशंस युनियन (आईटीयू) ने एक नई रिपोर्ट में कही। आईटीयू के ‘मेजरिंग द इनफोर्मेशन सोसायटी 2012’ के मुताबिक अभी ही 100 से अधिक ऐसे देश हैं, जहां आबादी से अधिक मोबाइल फोन नम्बरों की संख्या हो चुकी है।

आईटीयू के मुताबिक मोबाइल फोन नम्बर की मौजूदा संख्या छह अरब 2014 तक बढ़कर 7.3 अरब हो जाएगी, जबकि जनसंख्या सात अरब रहेगी। चीन एक अरब से अधिक मोबाइल फोन नम्बरों वाला पहला देश बन चुका है। जल्द ही भारत भी इस सूची में शामिल हो जाएगा।

रूस में मोबाइल फोन नम्बरों की संख्या 25 करोड़ है और यह आबादी की तुलना में 1.8 गुणा है। ब्राजील में सेल फोन नम्बरों की संख्या 24 करोड़ पहुंच चुकी है और यह देश की आबादी का 1.2 गुणा है। छह अरब सेल फोन नम्बरों में से 1.1 अरब मोबाइल-ब्रॉडबैंड हैं, जो फिक्स्ड-ब्रॉडबैंड की तुलना में दोगुणा है।

अध्ययन में चीन को स्मार्ट फोन का प्रमुख बाजार बताया गया। दुनिया में एक चौथाई इंटरनेट उपयोगकर्ता चीन में रहते हैं। अध्ययन में हालांकि कहा गया कि दुनिया की दो-तिहाई आबादी अब भी इंटरनेट का उपयोग नहीं करती है।

 
 
 
टिप्पणियाँ