शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 08:06 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
विद्या प्रकाश ठाकुर ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ लीदिलीप कांबले ने ली राज्यमंत्री पद की शपथविष्णु सावरा ने ली मंत्री पद की शपथपंकजा गोपीनाथ मुंडे ने ली मंत्री पद की शपथचंद्रकांत पाटिल ने ली मंत्री पद की शपथप्रकाश मंसूभाई मेहता ने ली मंत्री पद की शपथविनोद तावड़े ने मंत्री पद की शपथ लीसुधीर मुनघंटीवार ने मंत्री पद की शपथ लीएकनाथ खड़से ने मंत्री पद की शपथ लीदेवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
गुजराल का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:01-12-12 05:11 PMLast Updated:01-12-12 05:47 PM
Image Loading

पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल का शनिवार को पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। इस मौके पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी मौजूद थे।

प्रार्थना सभा और 21 बंदूकों की सलामी के साथ उनके पार्थिव शरीर का यमुना किनारे स्मृति स्थल में दाह संस्कार किया गया, जहां उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी और संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी भी मौजूद थी।

स्मृति स्थल देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के समाधि स्थल शांति वन और लाल बहादुर शास्त्री के समाधि स्थल विजय घाट के बीच स्थित है।

स्मृति स्थल में पूर्व प्रधानमंत्री के दो बेटों और पोते ने संयुक्त रूप से उन्हें मुखाग्नि दी। उनके एक पुत्र नरेश गुजराल अकाली दल सांसद हैं। रक्षा मंत्री एके एंटनी, गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे, वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा, विधि मंत्री अश्वनी कुमार, फारूक अब्दुल्ला, जयपाल रेड्डी, भाजपा नेता लाल कृष्ण आडवाणी और अरुण जेटली, पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा, इनलोद प्रमुख ओम प्रकाश चौटाला, लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान, जद-से के दानिश अली, अमर सिंह और कुछ वरिष्ठ नौकरशाह अंतिम संस्कार में शामिल हुए।

विभिन्न देशों के राजनयिक भी इस मौके पर मौजूद थे। राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सोनिया गांधी, एंटनी, शिंदे, बादल, आडवाणी, जितेन्द्र सिंह और अन्य लोगों ने गुजराल के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किया।

तिरंगे में लिपटे गुजराल के पार्थिव शरीर को पांच जनपथ स्थित उनके आवास से स्मृति स्थल लाया गया। उनका पार्थिव शरीर फूलों से सजे एक वाहन से स्मृति स्थल ले जाया गया। साथ में सैन्यकर्मी और करीबी रिश्तेदार भी थे। सशस्त्र सेना के तीनों अंगों के अधिकारी गुजराल के पार्थिव शरीर को दाह संस्कार स्थल तक लेकर गये।

 
 
 
टिप्पणियाँ