सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 02:34 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
मनमोहन न तो पार्टी और न देश के नेताः सुषमा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:15-12-12 06:34 PMLast Updated:15-12-12 08:03 PM
Image Loading

लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने शनिवार को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को निशाने पर लेते हुए कहा कि वह प्रधानमंत्री तो हैं लेकिन न तो वह अपनी पार्टी कांग्रेस और न ही देश के नेता हैं।

सुषमा ने कुछ फैसलों या उनमें विलंब के लिए गठबंधन की बाध्यताओं का बहाना लेने के लिए प्रधानमंत्री की आलोचना की। उन्होंने कहा कि हमने भी गठबंधन सरकार चलाई थी, जिसमें अधिक घटक दल थे। राजग में 24 दल थे। मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री हैं लेकिन न तो वह अपनी पार्टी और न ही देश के नेता हैं।

सुषमा ने कहा कि विपक्ष केवल वाचडाग की अपनी भूमिका निभा रहा है और सरकार से कहा है कि वह आत्मविश्लेषण करे। उन्होंने कहा कि जो घोटाले हो रहे हैं, वे केवल विपक्ष के आरोप नहीं हैं बल्कि उनका पर्दाफाश कैग (नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक) जैसी संवैधानिक संस्थाओं ने किया है। उन्होंने सरकार के इस आरोप से इंकार किया कि हालात के लिए विपक्ष जिम्मेदार है क्योंकि वह महत्वपूर्ण विधेयकों और नीतिगत कदमों को अपनाने में बाधा पहुंचा रहा है।

सुषमा ने कहा कि प्रधानमंत्री कहते हैं कि विपक्ष विधेयकों को पारित नहीं होने दे रहा हैं। मैं स्पष्ट करना चाहती हूं कि विधेयक सरकार और उसके घटक दलों के आंतरिक मतभेदों के कारण नहीं पारित हो पा रहे हैं। उन्होंने पेशन विधेयक का उदाहरण देते हुए कहा कि भाजपा ने उस समय विधेयक को पेश करते समय सरकार की मदद की थी, जब सदन में उसके पास बहुमत नहीं था और वाम दलों ने मत विभाजन की मांग की थी।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड