शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 18:47 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    मथुरा में भाजपा युवा मोर्चा का पुलिस पर पथराव, दर्जनों जख्मी मुख्यमंत्री कार्यालय में बदलाव करना चाहते हैं फड़नवीस  चीन ने पूरा किया चांद से वापसी का पहला मिशन  आज चार राज्य मना रहे हैं स्थापना दिवस  जम्मू-कश्मीर में बदले जा सकते हैं मतदान केंद्र 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' का वीडियो यूट्यूब पर हिट दिग्विजय सिंह की सलाह, कांग्रेस की कमान अपने हाथ में लें राहुल गांधी 'दिल्ली को फिर केंद्र शासित बनाने की फिराक में भाजपा' जनता सब देख रही है, बीजेपी हल्के में न लेः उद्धव ठाकरे वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत
मनमोहन न तो पार्टी और न देश के नेताः सुषमा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:15-12-12 06:34 PMLast Updated:15-12-12 08:03 PM
Image Loading

लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने शनिवार को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को निशाने पर लेते हुए कहा कि वह प्रधानमंत्री तो हैं लेकिन न तो वह अपनी पार्टी कांग्रेस और न ही देश के नेता हैं।

सुषमा ने कुछ फैसलों या उनमें विलंब के लिए गठबंधन की बाध्यताओं का बहाना लेने के लिए प्रधानमंत्री की आलोचना की। उन्होंने कहा कि हमने भी गठबंधन सरकार चलाई थी, जिसमें अधिक घटक दल थे। राजग में 24 दल थे। मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री हैं लेकिन न तो वह अपनी पार्टी और न ही देश के नेता हैं।

सुषमा ने कहा कि विपक्ष केवल वाचडाग की अपनी भूमिका निभा रहा है और सरकार से कहा है कि वह आत्मविश्लेषण करे। उन्होंने कहा कि जो घोटाले हो रहे हैं, वे केवल विपक्ष के आरोप नहीं हैं बल्कि उनका पर्दाफाश कैग (नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक) जैसी संवैधानिक संस्थाओं ने किया है। उन्होंने सरकार के इस आरोप से इंकार किया कि हालात के लिए विपक्ष जिम्मेदार है क्योंकि वह महत्वपूर्ण विधेयकों और नीतिगत कदमों को अपनाने में बाधा पहुंचा रहा है।

सुषमा ने कहा कि प्रधानमंत्री कहते हैं कि विपक्ष विधेयकों को पारित नहीं होने दे रहा हैं। मैं स्पष्ट करना चाहती हूं कि विधेयक सरकार और उसके घटक दलों के आंतरिक मतभेदों के कारण नहीं पारित हो पा रहे हैं। उन्होंने पेशन विधेयक का उदाहरण देते हुए कहा कि भाजपा ने उस समय विधेयक को पेश करते समय सरकार की मदद की थी, जब सदन में उसके पास बहुमत नहीं था और वाम दलों ने मत विभाजन की मांग की थी।

 
 
 
टिप्पणियाँ