शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 05:44 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शीना बोरा के इस्तीफे पर फर्जी साइनः राकेश मारिया।
मणिपुर घाटी में कर्फ्यू हटा, जनजीवन सामान्य
इंफाल, एजेंसी First Published:25-12-2012 01:24:35 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

अनिश्चितकालीन हड़ताल के निलंबन और कर्फ्यू हटने के बाद मणिपुर घाटी में आज जनजीवन सामान्य हो गया। एक नगा उग्रवादी द्वारा फिल्म अभिनेत्री के यौन उत्पीड़न के विरोध में यह हड़ताल हुई थी।
    
क्रिसमस के त्योहार को देखते हुये कर्फ्यू हटा लिया गया है। बाजारों में दुकानें खुलीं और परिवहन व्यवस्था सुचाए हो गयी। पश्चिम इंफाल, पूर्वी इंफाल, बिशेनपुर और थूबल के बाजारों में लोग जरूरी चीजें खरीदने के लिये घरों से बाहर निकले।
    
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आज सुबह छह बजे कर्फ्यू हटा लिया गया और आम हड़ताल को 24 दिसंबर की मध्यरात्रि से 26 दिसंबर की मध्यरात्रि तक निलंबित किया गया है।
    
फिल्म फोरम मणिपुर के सूत्रों ने बताया कि 26 दिसंबर की मध्यरात्रि से दोबारा हड़ताल शुरू कर दी जायेगी, जब तक नगा उग्रवादी को गिरफ्तार नहीं किया जाता।
      
रविवार को हिंसा में थांगजाम द्विजामणि नामक एक फोटो पत्रकार की मौत के बाद कल भी प्रदर्शन हुये। इसके चलते चार जिलों में कल सुबह 11 बजे से कर्फ्यू लगा दिया गया।
    
सूत्रों ने बताया कि सरकार और संयुक्त कार्रवाई समिति के बीच सहमति बनी है कि सरकार फोटोपत्रकार के मारे जाने में शामिल लोगों को पहचानेगी और उन्हें सजा देगी।
    
ऑल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्टस यूनियन के सक्रिय सदस्य द्विजामणि प्राइम न्यूज चैनल के लिये काम करते थे। वह दूरदर्शन को भी अपनी तस्वीरें दिया करते थे।
    
संयुक्त नगा परिषद ने एक बयान जारी कर कहा कि उसने 72 घंटों के बंद का आह्वान किया है, जो 26 दिसंबर की मध्यरात्रि से लागू होगा। संगठन का आरोप है कि कुछ आदिवासियों पर हड़ताल के समर्थकों ने हमला किया।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।