गुरुवार, 30 अक्टूबर, 2014 | 20:42 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    सिख दंगा पीड़ितों के परिजनों को पांच लाख देगा केंद्र अपमान से आहत शिवसेना ने किया फडणवीस के शपथ ग्रहण का बहिष्कार सरकार का कटौती अभियान शुरू, प्रथम श्रेणी यात्रा पर प्रतिबंध बेटे की दस्तारबंदी के लिए बुखारी का शरीफ को न्यौता, मोदी को नहीं कालेधन मामले में सभी दोषियों की खबर लेगा एसआईटी: शाह एनसीपी के समर्थन देने पर शिवसेना ने उठाये सवाल 'कम उम्र के लोगों की इबोला से कम मौतें'  श्रीलंका में भूस्खलन में 100 से अधिक लोग मरे स्वामी के खिलाफ मानहानि मामले की सुनवाई पर रोक मायाराम को अल्पसंख्यक मंत्रालय में भेजा गया
महाराष्ट्र से अलग नहीं मुंबई: बाल ठाकरे
मुंबई, एजेंसी First Published:18-02-12 02:38 PM
Image Loading

शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे ने शनिवार को कहा कि मुंबई निगम चुनावों के नतीजों ने दिखा दिया है कि शहर को महाराष्ट्र से अलग नहीं किया जा सकता। उन्होंने पार्टी के मुखपत्र सामना में अपने बयान में कहा कि मुंबई और ठाणे के नतीजे दिखाते हैं कि मुंबई को महाराष्ट्र से अलग नहीं किया जा सकता।
   
उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से अपने भतीजे और राजनीतिक विरोधी राज ठाकरे के बारे में कहा कि मेरे पास मतदाताओं का आभार व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं हैं। हमें घेरने के लिए हमारे घर और बाहर दोनों से ही कोशिशें की गई।
   
शिवसेना प्रमुख ने मीडिया के एक वर्ग की भी आलोचना करते हुए कहा कि कुछ नेताओं के कहने पर अपमानजनक लेख छापकर पार्टी की छवि खराब की गई। एक मराठी अखबार में संपादकीय में ठाकरे ने मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण पर निशाना साधते हुए लिखा था। चव्हाण ने कहा था कि चुनाव के बाद शिवसेना की अहमियत नहीं रह जाएगी।
   
ठाकरे ने लिखा कि चव्हाण अब कहां हैं अब वह अपना चेहरा छिपा रहे हैं। मुंबई और ठाणे नगर निगमों से भगवा ध्वज को हटाने में कोई सफल नहीं रहा।

 
 
 
टिप्पणियाँ