सोमवार, 31 अगस्त, 2015 | 04:01 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
साधु के वेश में चित्रकूट में रह रहा था मालेगांव विस्फोट का प्रमुख आरोपी
भोपाल, एजेंसी First Published:18-12-2012 12:36:33 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

मध्यप्रदेश की सतना पुलिस ने मालेगांव विस्फोट के प्रमुख आरोपी को चित्रकूट के एक मंदिर से साधुवेश में गिरफ्तार कर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को सौंप दिया।
     
पुलिस अधिकारियों ने आज यहां बताया कि पकड़े गए आरोपी की पहचान धनसिंह के रूप में हुई है। वह इंदौर जिले के देपालपुर का निवासी है तथा भेष बदल कर चित्रकूट में साक्षी कुंड में लखनदास महाराज उर्फ लखनदास बाबा उर्फ रामलखन के नाम से रह रहा था। साक्षी कुंड कामतानाथ की परिक्रमा करने के दौरान पड़ता है। चित्रकूट जाने के बाद धनसिंह ने लखनदास महाराज के नाम से अपना हुलिया बदल लिया था तथा दाढ़ी-बाल बढ़ाकर साधुवेश में रहने लगा था।
    
उन्होंने बताया कि लखनदास बाबा को सतना पुलिस ने एनआई की सूचना पर कल तड़के गिरफ्तार किया। प्राथमिक पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। उसने माना है कि वह मालेगांव बम विस्फोट में शामिल था। लखनदास बाबा द्वारा जुर्म कबूल करने के बाद पुलिस ने शाम तक उसे एनआईए को सौंप दिया।
    
उल्लेखनीय है कि समक्षौता एक्सप्रेस बम विस्फोट मामले में एनआईए ने दो दिन पहले उज्जैन से दशरथ गारी उर्फ दशरथ चौधरी उर्फ समंदर सिंह को गिरफ्तार किया था। उस पर पांच लाख रुपये का इनाम घोषित था। दशरथ ने ही एनआईए की पूछताछ में लखनदास बाबा के बारे में जानकारी दी थी। बताया जाता है कि दशरथ ने और भी कई राज एनआईए की पूछताछ में उगले हैं।
    
पुलिस के अनुसार लखनदास बाबा ने पूछताछ में बताया कि वह मालेगांव विस्फोट की योजना में शामिल था, जिसके बाद फरारी काटने के लिए चित्रकूट आ गया। तब से वह चित्रकूट में ही रह रहा था।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingकोलंबो टेस्ट: भारत को 132 रनों की बढ़त
इशांत शर्मा ( 54 रन पर पांच विकेट) की घातक गेंदबाजी और इससे पहले ओपनर चेतेश्वर पुजारा (नाबाद 145) रन के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने यहां तीसरे और निर्णायक टेस्ट मैच के तीसरे दिन रविवार को अपना शिकंजा कसते हुये मेजबान श्रीलंका के खिलाफ 111 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल कर ली।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

सीसीटीवी कैमरों का जमाना है...
पिता: एक समय था, जब मैं 10 रुपए में किराना, दूध, सब्जी और नाश्ता ले आता था..
बेटा: अब संभव नहीं है, पापा अब वहां सीसीटीवी कैमरे लगे होते हैं।