रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 13:13 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    एयर इंडिंया के कई पायलट खत्म लाइसेंस पर उड़ा रहे हैं विमान इराक में आईएस के ठिकानों पर अमेरिका के 23 हवाई हमले राजनाथ ने युवाओं से शांति और सौहार्द का संदेश फैलाने को कहा  शीतकालीन सत्र से पहले नए योजना निकाय का गठन कर सकती है सरकार  आज मोदी की चाय पार्टी में शामिल हो सकते हैं शिवसेना सांसद शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू  मोदी की मौजूदगी में मनोहर लाल खट्टर ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता
एफडीआई पर नियम 184 के तहत चर्चा को मंजूरी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-11-12 12:25 PMLast Updated:29-11-12 03:40 PM
Image Loading

लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में एफडीआई के मुद्दे पर मत विभाजन के प्रावधान वाले नियम 184 के तहत चर्चा कराने का नोटिस स्वीकार कर लिया है।
   
गुरुवार को सदन की कार्यवाही शुरू होने पर अध्यक्ष मीरा कुमार ने कहा कि मुझे बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में एफडीआई के मुद्दे पर नियम 184 के तहत चर्चा कराने के संबंध में 30 नोटिस प्राप्त हुए हैं। मैंने इसे स्वीकार कर लिया है।
   
उन्होंने कहा कि चर्चा की तिथि और समय का निर्णय बाद में किया जायेगा। लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने अध्यक्ष की व्यवस्था पर धन्यवाद देते हुए कहा कि सदन की भावना को ध्यान में रखने के लिए मैं आपका आभार व्यक्त करती हूं और आपको विश्वास दिलाती हूं कि अब सदन सुचारू रूप से चलेगा।
   
गौरतलब है कि बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में एफडीआई के मुद्दे पर हंगामे के कारण 22 नवंबर से शुरू हुए संसद के शीतकालीन सत्र में लगातार चार दिन कोई कामकाज नहीं हो सका। इस मुद्दे पर तृणमूल कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश करने का भी प्रयास किया, लेकिन संख्याबल नहीं होने के कारण यह प्रयास विफल रहा था।
   
गतिरोध समाप्त करने के प्रयास सर्वदलीय बैठक बुलायी गई जो बेनतीजा रही, क्योंकि विपक्ष मतविभाजन के प्रावधान के तहत चर्चा कराने पर अड़ा हुआ था।
   
बहरहाल, संप्रग के घटक दलों की बैठक के बाद संसद में जारी गतिरोध दूर करने का रास्ता निकल सका। बैठक के बाद संसदीय मामलों के मंत्री कमलनाथ ने कहा था कि स्पीकर और सरकार के किसी भी फैसले पर संप्रग पूरी तरह एकजुट है, सभी घटक सरकार के पीछे पूरी तरह एकजुट हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ