शनिवार, 20 दिसम्बर, 2014 | 12:44 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
जम्मू के सोपोर में सरपंच की हत्या, संदिग्धों ने गोली मारकर सरपंच गुलाम अहमद भट्ट की हत्या की।झारखंड: पोडैयाहाट के बूथ नंबर 133 पर फर्जी़ वोटिंग को लेकर दो लोग गिरफ़तारयूपी: मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना क्षेत्र के गांव परासौली के धार्मिक स्थल में देर रात असामाजिक तत्व ने जानवरों के कटे हुए सिर रखे, नंदी की मूर्ति भी चुराई, तनाव, एडीएम प्रशासन सहित कई आलाधिकारी मौके पर पहुंचे, पीएसएसी व पुलिस बल तैनातजम्मू में सुबह 10 बजे तक 12.09 प्रतिशत मतदान।ब्रिस्बेन टेस्ट : 4 विकेट से हारा भारतझारखंड: सुबह 11 बजे तक जामताड़ा-34, नाला-35, बोरियो-33, राजमहल-33, बरहेट-40, पाकुड़-41, लिट्टीपाड़ा-40, महेशपुर-39, दुमका-31, जामा-33, जरमुंडी-37, शिकारीपाड़ा-35, सारठ-39, पोड़ैयाहाट-37, गोड्डा-28, महगामा-35 प्रतिशत मतदान हुआझारखंड: गोड्डा के बूथ-315,316 पर भजपा प्रत्याशी के बेटा पर मारपीट करने का आरोप, आधे घंटे बाधित हुआ मतदानझारखंड: लिट्टीपाड़ा बूथ नं 32 धूप निकलने के साथ निकले मतदाता, मतदान केंद्र से सड़क तक लगी लंबी लाइनझारखंड: चित्र आदर्श बूथ पर विधानसभा अध्यक्ष शशांक शेखर के परिजनों ने डाला वोटझारखंड : भाजपा प्रत्याशी लुइस मरांडी ने दुमका में बूथ-68 पर झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ताओं पर पैसा बांटने का आरोप लगाया, प्रशासन से की शिकायत, एसडीओ ने थानेदार को तत्काल जांच करने भेजाजम्मू-कश्मीर: राज्य की 87 सदस्यीय विधानसभा में नेकां के 28, पीडीपी के 21, कांग्रेस के 17 और भाजपा के 11 विधायक हैं।जम्मू-कश्मीर: पिछले चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इन 20 में से 11, कांग्रेस ने पांच और नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) ने तीन सीटों पर जीत हासिल की थी। पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) एक सीट पर ही सिमट कर रह गई थी।झारखंड : बोरियो विस क्षेत्र के बूथ नंबर 67 पर चुनाव को लेकर बढ़ी चौकसीझारखंड: लिट्टीपाड़ा के फतेहपुर गांव की महिलाओं को उम्मीद कि नई सरकार पेयजल की समस्या हल करेगीदुमका विधानसभा क्षेत्र के माहरो बूथ पर लगी लंबी कतार, दुमका सीट से मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन लड़ रहे हैंसाहिबगंज जिले के उधवा में मौसम भी मेहरबान रहा, सुबह धूप निकली, मतदाताओं में उत्‍साहजम्मू के डिवीजनल कमिश्नर अजित कुमार साहू का कहना है कि मतदाताओं में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। ठंड के बावजूद बड़ी संख्या में लोग वोट डालने आ रहे हैं। साहू ने कहा कि हमने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं और कहीं से भी हिंसा की कोई खबर नहीं है।राजौरी में मतदान करने के बाद एक वोटर ने कहा कि लोगों में मतदान को लेकर उत्साह है और सभी जगह शांतिपूर्ण तरीके से मतदान चल रहा है।शुक्रवार की रात नौशेरा में पीडीपी कार्यकर्ताओं के हमले में घायल भाजपा प्रत्याशी रविंद्र रैना को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।यूपी: अमरोहा के चौधरपुर गांव में युवक की गला घोंट कर हत्या, सुबह घर के बाहर मिला शव, पुलिस पूछताछ में जुटीदुमका के कुछ वोटरों से हिन्दुस्तान ने बातचीत कर जानना चाहा कि उनकी वोटिंग का आधार क्या है? 35 साल के सत्येंद्र सिंह का कहना है स्थायी सरकार मुद्दा है, तो 42 साल के जवाहर लाल का कहना है कि शिक्षा के क्षेत्र में विकास है मुद्दा।झारखंड: सुबह 9 बजे तक जामताड़ा-13, नाला-11, बोरियो-20, राजमहल-18, बरहेट-11, पाकुड़-16, लिट्टीपाड़ा-16, महेशपुर-18,दुमका-11, जामा-14, जरमुंडी-12, शिकारीपाड़ा-14, सारठ-14, पोड़ैयाहाट-11, गोड्डा-12, महगामा-10 प्रतिशत मतदान हुआझारखंड: पाकुड़ जिले के लिट्टीपाड़ा विस क्षेत्र में बूथ-134 में बुनियादी सुविधाओं की मांग को लेकर हुआ बहिष्कार, 9 बजे फिर शुरू हुआ मतदानझारखंड : बोरियो के बूथ नं 208 में एक घंटे में 124 वोट पड़े
राजकोट से पहली बार विधानसभा पहुंचे थे मोदी, केशुभाई
राजकोट, एजेंसी First Published:09-12-12 09:59 AMLast Updated:09-12-12 10:21 AM
Image Loading

सौराष्ट्र में मोदी विरोधी राजनीति का केंद्र बन चुके राजकोट जिले के शहरी इलाकों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)का दबदबा बरकरार है, जबकि ग्रामीण इलाकों में केशुभाई पटेल के विरोधी तेवरों के कारण उसकी पकड़ ढीली हुई है। मौजूदा राजनीति में एक-दूसरे के धुर विरोधी बन चुके मोदी और केशुभाई ने अपना चुनावी सफर यहीं से शुरू किया था।

ग्यारह विधानसभा सीटों वाले सौराष्ट्र के सबसे बड़े इस जिले में भाजपा के पास कभी आठ सीटें हुआ करती थीं, लेकिन बदले परिदृश्य में वह छह सीटों तक सिमटती दिख रही है।

वर्ष 1998 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने जिले की आठ सीटें जीती थीं तो 2002 में वह नौ सीटें जीतने में कामयाब रही। हालांकि 2007 के विधानसभा चुनाव में उसकी संख्या सात हो गई।

कांग्रेस के हाथ 1998 में महज तीन सीटें आई थीं, जबकि 2002 में उसे सिर्फ दो सीटों से संतोष करना पड़ा। 2007 में कांग्रेस ने तीन सीटें जीती, जबकि एक सीट उसकी सहयोगी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने जीती।

राजकोट से ही मोदी सरकार के वित्त मंत्री और वरिष्ठ नेता वजूभाई वाला चुनाव लड़ते रहे हैं। वाला ने राजकोट-2 सीट से लगातार छह विधानसभा चुनाव जीते हैं और इस बार राजकोट-2 सीट खत्म हो जाने के बाद राजकोट-पश्चिम सीट से वह भाजपा के उम्मीदवार हैं। उनकी जीत सुनिश्चित मानी जा रही है।

विधानसभा चुनाव की दृष्टि से राजकोट, सौराष्ट्र का सबसे बड़ा जिला है। इस जिले में विधानसभा की ग्यारह सीटें मोरबी, टंकारा, वांकानेर, राजकोट पूर्व, राजकोट पश्चिम राजकोट दक्षिण, राजकोट ग्रामीण, जसदण, गोंडल, जेतपुर और धोराजी हैं।

परिसीमन के कारण उपलेटा सीट खत्म हो गई है। राजकोट-1 और राजकोट-2 की जगह राजकोट शहर में तीन सीटें अस्तित्व में आ गई हैं। राजकोट पूर्व, राजकोट पश्चिम और राजकोट दक्षिण।

राजकोट पूर्व पर भाजपा का दबदबा बना हुआ है, जबकि राजकोट दक्षिणी सीट पर बराबरी का मुकाबला है।

केशुभाई का अपना शहर राजकोट ही है और उनकी गुजरात परिवर्तन पार्टी (जीपीपी) पूरे दमखम के साथ चुनाव लड़ रही है। राजकोट जिले में मोदी को घेरने के लिए जीपीपी और कांग्रेस के बीच अंदरूनी तालमेल भी हुआ है। जिस सीट पर जीपीपी का उम्मीदवार मजबूत स्थिति में है उस सीट पर कांग्रेस ने कमजोर उम्मीदवार उतारा है और जिस सीट पर कांग्रेस का उम्मीदवार मजबूत स्थिति में है उस सीट पर जीपीपी ने अपना कमजोर उम्मीदवार खड़ा किया है।

केशुभाई ने 1975 में विधानसभा का पहला चुनाव जीता था तो 1977 में लोकसभा का चुनाव। यह कभी उनका गढ़ हुआ करता था जो बाद में भाजपा के गढ़ में तब्दील हो गया।

गोंडल सीट भी जीपीपी के खाते में जाती दिख रही है। वहां से पूर्व गृह मंत्री गोर्धन झड़ाफिया मैदान में हैं। राजकोट के ग्रामीण इलाकों में पानी बड़ी समस्या है, जिसके कारण लोग भाजपा से नाराज हैं और जातिगत समीकरण भी उनके पक्ष में हैं। यहां पटेलों की आबादी अधिक है और वे केशुभाई का साथ दे रहे हैं। इसका सीधा फायदा जीपीपी और कांग्रेस उम्मीदवारों को मिल रहा है।

जसदण सीट भी जीपीपी को मिल सकती है, जबकि धोरजी और जेतपुर पर कांग्रेसी उम्मीदवार भारी पड़ते दिख रहे हैं। शेष सीटों पर भाजपा बनी हुई है।

मोदी ने 2001 के अक्टूबर महीने में गुजरात के मुख्यमंत्री की कुर्सी सम्भाली तो पहली बार विधानसभा में प्रवेश करने के लिए राजकोट-2 सीट से ही चुनाव लड़ा, जो सीट उनके लिए वजूभाई वाला ने खाली की थी। इसके बाद मोदी ने मणिनगर सीट का रुख किया।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड