सोमवार, 25 मई, 2015 | 10:54 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ये हैं मोदी सरकार की 25 बड़ी उपलब्धियां और 25 चुनौतियां सेक्सी नहीं, फाइटर के रूप में पहचान चाहती हैं रोसी रामपुर: ट्रांसफार्मर में आग लगने से मची भगदड़ CBSE 12वीं का रिजल्ट आज, गणित में मिलेंगे ग्रेस मार्क्स नोबेल पुरस्कार विजेता मशहूर अर्थशास्त्री जॉन नैश का निधन अब ओपन कैबिनेट मीटिंग कैसे कर पाएंगे अरविंद केजरीवाल मथुरा में आज मोदी की रैली, धमकी देने वाला गिरफ्तार आईपीएल 8 में लगातार चार मैच हार चुकी थी मुंबई इंडियंस, और फिर... मोदी सरकार को केजरीवाल से एलर्जी: सिसोदिया  चेन्नई सुपरकिंग्स को हराकर मुंबई इंडियन्स बना आईपीएल चैम्पियन
कर्नाटक में लापता होने के मामलों को देखे केंद्रीय एजेंसी
बेंगलोर, एजेंसी First Published:03-12-12 10:22 PM

कर्नाटक महिला आयोग ने सोमवार को राज्य सरकार को सुझाव दिया कि लापता महिलाओं और लड़कियों के मामलों को देखने के लिए एक केंद्रीय निगरानी एजेंसी बनाए। आयोग ने कहा कि सभी बस और रेलवे स्टेशनों पर निगरानी प्रकोष्ठ बनाएं जाने चाहिएं ताकि इन जगहों पर लड़कियों को दलालों से बचाया जा सके।
 
उल्लेखनीय है कि सरकार ने इस आयोग से कहा था कि मैसूर में बड़ी संख्या में लड़कियों और महिलाओं के लापता होने के कारणों का अध्ययन करे। आयोग ने छात्रों के लिए नैतिक शिक्षा अनिवार्य करने की सिफारिश करते हुए लड़कियों और महिलाओं के खिलाफ बढ़ते गुमशुदगी, अपहरण और तस्करी के मामलों पर अंकुश लगाने के लिए सूचना और संचार प्रौद्योगिकी की भूमिका रेखांकित की।

आयोग की अध्यक्ष सी मंजुला और अन्य सदस्यों ने राज्य के उप मुख्यमंत्री और गृह मंत्री आर अशोक को आज यह अध्ययन सौंपा। अध्ययन में कहा गया है कि इस तरह के अपराधों का शिकार बनने वाली ज्यादातर लड़कियां किशोरवय की और खास तौर से स्कूल अथवा कॉलेज की छात्रा होती हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड