गुरुवार, 30 अक्टूबर, 2014 | 19:59 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    सिख दंगा पीड़ितों के परिजनों को पांच लाख देगा केंद्र अपमान से आहत शिवसेना ने किया फडणवीस के शपथ ग्रहण का बहिष्कार सरकार का कटौती अभियान शुरू, प्रथम श्रेणी यात्रा पर प्रतिबंध बेटे की दस्तारबंदी के लिए बुखारी का शरीफ को न्यौता, मोदी को नहीं कालेधन मामले में सभी दोषियों की खबर लेगा एसआईटी: शाह एनसीपी के समर्थन देने पर शिवसेना ने उठाये सवाल 'कम उम्र के लोगों की इबोला से कम मौतें'  श्रीलंका में भूस्खलन में 100 से अधिक लोग मरे स्वामी के खिलाफ मानहानि मामले की सुनवाई पर रोक मायाराम को अल्पसंख्यक मंत्रालय में भेजा गया
कर्नाटक में उप मुख्यमंत्री ईश्वरप्पा के आवास पर छापा
बंगलुरु, एजेंसी First Published:24-12-12 01:43 PM
Image Loading

कर्नाटक पुलिस ने भ्रष्टाचार के एक मामले में प्रमाणों की खोज में सोमवार को उप मुख्यमंत्री के.एस. ईश्वरप्पा के गृह नगर शिमोगा स्थित आवासों पर छापेमारी की। ईश्वरप्पा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की राज्य इकाई के अध्यक्ष भी हैं।

बंगलुरु से 280 किलोमीटर दूर स्थित शिमोगा में स्थित लोकायुक्त अदालत के निर्देश पर पुलिस ने यह छापेमारी की। ईश्वरप्पा पर भ्रष्टाचार के जरिए सम्पत्ति इकट्ठी करने का आरोप है और इसी मामले में जांच के लिए यह छापेमारी की गई।

बेंगलुरू में एक पुलिस प्रवक्ता ने संवाददाताओं से कहा कि ईश्वरप्पा व उनके पारिवारिक सदस्यों से सम्बंधित सम्पत्ति के दस्तावेजों के अध्ययन के लिए यह छापेमारी की गई।

पुलिस ने शिमोगा के वकील बी.विनोद की शिकायत पर ईश्वरप्पा, उनके बेटे के.ई. कांतेश व बहू शालिनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच की औपचारिक शुरुआत की। शिकायत में आरोप लगाया गया है कि ईश्वरप्पा ने भ्रष्ट साधनों के जरिए अत्यधिक सम्पत्ति इकट्ठी की है।

यहां से 400 किलोमीटर दूर उत्तरी कर्नाटक के कोप्पल की यात्रा पर पहुंचे ईश्वरप्पा ने संवाददाताओं से यहां कहा कि वह छापेमारी का स्वागत करते हैं क्योंकि इससे सच्चाई बाहर आएगी।

एफआईआर दर्ज होने के बाद गिरफ्तारी के डर से ईश्वरप्पा व उनके पारिवारिक सदस्यों ने शिमोगा अदालत में अग्रिम जमानत की याचिका दाखिल की है। इस याचिका पर 27 दिसम्बर को सुनवाई होगी।

ईश्वरप्पा ने कांग्रेस की उप-मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने की मांग ठुकरा दी है। कांग्रेस की मांग थी कि निष्पक्ष जांच के लिए ईश्वरप्पा अपने पद से इस्तीफा दें।

वह कर्नाटक में भ्रष्टाचार के मामलों का सामना कर रहे भाजपा के नए नेता हैं। राज्य की 225 सदस्यीय विधानसभा में मौजूद पार्टी के 118 सदस्यों में से कई मंत्रियों सहित तकरीबन 80 सदस्यों के खिलाफ बेंगलुरू की अदालतों में भ्रष्टाचार के मामले हैं।

 

 
 
 
टिप्पणियाँ