शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 04:40 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
येदियुरप्पा ने बढ़ाई कर्नाटक सरकार की मुश्किल
बेंगलरु, एजेंसी First Published:03-01-2013 07:04:09 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

पिछले माह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से अलग होकर कर्नाटक जनता पार्टी (केजेपी) का गठन करने वाले पूर्व मुख्यमंत्री बी. एस. येदियुरप्पा ने कर्नाटक में मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टार सरकार की मुश्किल बढ़ा दी है। शुक्रवार को केजेपी की कार्यकारी समिति की बैठक होने वाली है, जिसे देखते हुए कर्नाटक सरकार की स्थिरता पर अटकलें तेज हो गई हैं।

येदियुरप्पा समर्थकों का दावा है कि केजेपी कार्य समिति की बैठक में भाजपा के कुछ विधायक भी शामिल होंगे। सूत्रों का कहना है कि इस बैठक में शेट्टार सरकार को समय से पहले गिराने के बारे में निर्णय लिया जा सकता है।

कर्नाटक में भाजपा के पहले मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने 30 नवंबर को पार्टी से इस्तीफा दे दिया था और नौ दिसम्बर को नई पार्टी का गठन किया था। वह नहीं चाहते कि शेट्टार इस बार बजट पेश कर सकें, क्योंकि उनका बजट लोकलुभावन हो सकता है, जिसका फायदा भाजपा को मई में होने वाले विधानसभा चुनाव में मिल सकता है।

कर्नाटक में आम बजट केंद्र सरकार के बजट पेश करने के बाद पेश होता है। केंद्र सरकार का आम बजट आम तौर पर फरवरी की आखिरी तारीख को पेश् किया जाता है। मई में होने वाले चुनाव को देखते अनुमान जताया जा रहा है कि राज्य सरकार सम्पूर्ण बजट पेश नहीं करेगी, लेकिन बताया जाता है कि शेट्टार ऐसा करना चाहते हैं।

शेट्टार ने कहा है कि वह फरवरी के दूसरे सप्ताह में बजट पेश करेंगे। मुख्यमंत्री कार्यालय बजट से पहले विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ हो रही बैठकों को खूब प्रचारित कर रहा है। शेट्टार यह भी कह रहे हैं कि उनकी सरकार का बजट किसानों का हितैषी है और वह सरकार गिराने की येदियुरप्पा की योजनाओं से चिंतित नहीं हैं।

सरकार गिराने की अटकलों पर येदियुरप्पा ने हालांकि चुप्पी साध रखी है, लेकिन उनके समर्थकों का दावा है कि भाजपा के 20 से अधिक विधायक केजीपी की कार्य समिति की बैठक में शामिल होंगे और फिर विधानसभा तथा बाद में भाजपा से इस्तीफा दे देंगे।

येदियुरप्पा के करीबी भाजपा विधायक नेहरू ओलेकर ने हावेरी में संवाददाताओं से बुधवार को कहा कि भाजपा के 30 में से 25 विधानसभा सदस्य पार्टी छोड़ने के लिए तैयार हैं।

गौरतलब है कि कर्नाटक की 225 सदस्यीय विधानसभा में विधानसभा अध्यक्ष सहित भाजपा के 117 सदस्य हैं, जबकि कांग्रेस के 71 और जनता दल-सेक्युलर के 26 सदस्य हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।