गुरुवार, 02 जुलाई, 2015 | 10:51 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ललित मोदी ने बीजेपी नेता सुधांशु मित्तल पर लगाए हवाला कारोबारी से संबंधों के आरोप मोदी के विजय रथ को रोकना कांग्रेस के लिए असंभव: हंसराज भारद्वाज  किरण रिजिजु के लिए तीन यात्रियों को एयर इंडिया की फ्लाइट से उतारा ये सिफारिशें मानी गईं तो डबल हो जाएगी सांसदों की सैलेरी, पेंशन में होगी 75% बढ़ोत्तरी RSS की सलाह, भूमि बिल पर सहयोगी दलों से बातचीत करे सरकार  भैंस और मुर्गियों के बाद अब यूपी पुलिस को है 'चुड़ैल' की तलाश यूपी: नौकरी का झांसा देकर छात्रा के साथ किया रेप, बनाया वीडियो ललित मोदी मामला: इन नए खुलासों से कांग्रेस और बीजेपी दोनों परेशान अब मोबाइल फोन से डायल हो सकेगा लैंडलाइन नंबर गोद से गिरी बच्ची, बचाने के लिए मां भी चलती ट्रेन से कूदी
60 फीसदी महिलाएं खुले में शौच को मजबूर: रमेश
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:20-12-12 02:48 PMLast Updated:20-12-12 03:27 PM
Image Loading

केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने गुरुवार को लोकसभा में कहा कि देश में आज भी 60 फीसदी महिलाएं खुले में शौच को मजबूर हैं, जो बेहद शर्मनाक स्थिति है।

जयराम रमेश ने लोकसभा में प्रश्नोत्तर काल के दौरान निर्मल भारत अभियान योजना के संबंध में सदस्यों द्वारा किए गए सवालों का जवाब दिए जाने के दौरान कहा कि आज भी देश में 60 फीसदी महिलाएं खुले में शौच को मजबूर हैं जो बेहद शर्मनाक है।

उन्होंने बताया कि देश में सभी ग्राम पंचायतों को खुले में शौच की समस्या से मुक्ति दिलाने के लिए दस साल लगेंगे। उन्होंने कहा कि इस समस्या से पूरी तरह मुक्त होने वाला सिक्किम देश का पहला राज्य बन गया है। केरल इस सूची में दूसरे स्थान पर है, जबकि अप्रैल 2013 में हिमाचल प्रदेश यह सफलता हासिल करने वाला तीसरा राज्य होगा। इसके बाद हरियाणा, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश तथा कई अन्य राज्य भी इस दिशा में काफी प्रगति कर रहे हैं।

रमेश ने बताया कि वर्ष 2022 तक देश के सभी ग्राम पंचायतों को खुले में शौच की समस्या से निजात दिलाने का लक्ष्य रखा गया है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड