शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 14:27 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आम आदमी की उम्मीदों को पूरा करे सरकार: शिवसेना वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत केंद्र सरकार के सचिवों से आज चाय पर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा आज से शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान आयोग कर सकता है देह व्यापार को कानूनी बनाने की सिफारिश भाजपा की अपनी पहली सरकार के समारोह में दर्शक रही शिवसेना बेटी ने फडणवीस से कहा, ऑल द बेस्ट बाबा झारखंड में हेमंत सरकार से समर्थन वापसी की तैयारी में कांग्रेस अब एटीएम से महीने में पांच लेन-देन के बाद लगेगा शुल्क  पेट्रोल 2.41 रुपये, डीजल 2.25 रुपये सस्ता
जैन समाज में लड़कियों के जींस-टॉप पहनने पर पाबंदी लगी
भोपाल, एजेंसी First Published:26-12-12 08:31 PM
Image Loading

मध्य प्रदेश में युवतियों के पहनावे पर नई बहस शुरू हो गई है। राज्य के दमोह जिले में जैन समाज ने युवतियों के जींस-टॉप पहनने पर पाबंदी लगा दी है।

राज्य के नगरीय प्रशासन मंत्री बाबू लाल गौर युवतियों के पहनावे पर सवाल खड़ा कर चुके हैं और अब दिल्ली में चलती बस में 23 वर्षीय युवती के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बाद जैन समाज के कदम से बहस को नया बल मिला है। जैन समाज ने सरकार से जींस-टॉप और पारदर्शी परिधान पर रोक लगाने की मांग की है। गौर ने छेड़छाड़ के लिए पाश्चात्य संस्कृति के पहनावे को जिम्मेदार माना था।

दमोह के पथरिया में चल रहे जैन समाज के सिद्धचक्र महामंडल में मृदुमति माता व ब्रह्मचारी प्रदीप भैया ने युवतियों के जींस व टॉप के पहनने को उचित नहीं माना। सोमवार को प्रदीप भैया के आह्वान पर सभी ने युवतियों के जींस व टॉप के पहनने पर रोक लगाने का संकल्प लिया। जैन मुनियों के आह्वान पर युवतियों से घर से जींस-टॉप मंगाकर उनकी होली जलाई गई।

इस मौके पर राज्य सरकार के कृषि मंत्री रामकृष्ण कुसमरिया से राज्य विधानसभा में युवतियों के मुंह पर कपड़ा बांधने व जींस-टॉप व पारदर्शी परिधान पर रोक प्रस्ताव लाने का आग्रह किया।

 
 
 
टिप्पणियाँ