शनिवार, 29 अगस्त, 2015 | 05:45 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
हाफिज मामले में मलिक को नहीं दी गई पूरी जानकारी: भारत
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:17-12-2012 02:37:40 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

भारत ने 26/11 के मुंबई आतंकी हमले के षडयंत्र में जमात-उद-दावा के संस्थापक हाफिज सईद की भूमिका को लेकर पाकिस्तान पर आज कथनी और करनी में अंतर होने का आरोप लगाया।

सरकार ने कहा कि इस मामले में उनके गृह मंत्री रहमान मलिक को गलत जानकारियां दी गई, क्योंकि पूर्व में हाफिज को जिन कारणों से गिरफ्तार किया गया, उनमें मुंबई हमले का मामला शामिल नहीं था।
   
गृह मंत्री सुशील कुमार शिन्दे ने आज राज्यसभा में पाकिस्तान के गृह मंत्री मलिक के 14 से 16 दिसंबर के भारत दौरे के बारे में अपनी ओर से दिए गए बयान में यह बात कही। उन्होंने कहा मलिक हमें यह बात कई बार कह चुके हैं कि उन्होंने तीन बार हाफिज सईद को गिरफ्तार किया और हर बार उसे अदालतों ने सबूतों के अभाव में छोड़ दिया।
   
शिंदे ने कहा पाकिस्तान के गृह मंत्री द्वारा हमें यह समझाया गया कि हाफिज सईद को 26/11 के मुंबई आतंकी हमले के षडयंत्र में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। उनके साथ हुई मेरी बातचीत के दौरान उन्होंने कहा था कि यदि हम चाहें तो वह हमें सईद की तीन बार की गिरफ्तारी संबंधी प्राथमिकी और अदालतों द्वारा उसे छोड़ने के निर्णय को उपलब्ध करा देंगे।
   
उन्होंने कहा जब हमने इस मामले को उठाया तो उन्होंने सईद की वर्ष 2002 और 2009 में की गई गिरफ्तारी से संबंधित दस्तावेज उपलब्ध कराए थे। हमें उपलब्ध कराए गए दस्तावेजों से यह स्पष्ट है कि उपरोक्त मामलों में सईद की गिरफ्तारी अन्य कारणों से हुई थी, न कि 26/11 के मुंबई आतंकी हमले में एक षडयंत्रकारी के रूप में उसकी भूमिका के कारण।
   
उन्होंने कहा अत: मैं केवल यही कह सकता हूं कि ऐसा लगता है कि रहमान मलिक को इस मामले में गलत जानकारी दी गई है।
   
गृह मंत्री ने कहा कि पाकिस्तानी पक्ष ने समझौता एक्सप्रेस विस्फोट मामले की जांच का मुद्दा उठाया। राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने इस बारे में पाकिस्तान की संघीय जांच एजेंसी को ताजा जानकारी दी है।
   
उन्होंने कहा यह भी स्पष्ट कर दिया गया कि समक्षौता जांच की प्रगति की तुलना मुंबई आतंकवादी हमले से नहीं की जा सकती।
   
शिन्दे ने कहा कि मलिक के साथ बातचीत में उन्होंने यह स्पष्ट किया कि भारत सरकार और हमारी जनता के मन में जो मुख्य मुद्दे हैं उनमें मुंबई आतंकी हमले के दोषियों को कानून के शिकंजे में लाना मुख्य है। उन्होंने बताया कि मुंबई आतंकी हमले के असली मास्टरमाइंड एवं षडयंत्रकारियों तथा उसके सहभागियों के खिलाफ अभी तक आरोपपत्र नहीं दाखिल किए गए हैं।
    
उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में मैंने इस तथ्य का विशेष उल्लेख किया कि हमारी जांच से पता लगा है कि हाफिज सईद 26/11 हमले के षडयंत्र का मास्टरमाइंड है। पाकिस्तान को उसे अभ्यारोपित करने के लिए अभी प्रभावी कार्रवाई करनी है। 
     
शिंदे ने कहा कि मैंने उन लोगों की पहचान साबित करने के लिए आवाज के नमूनों पर भी बल दिया जिनकी आवाज हमला करने वाले व्यक्तियों को निर्देश देते समय टेप में दर्ज की गयी। मैंने एनआईए की जांच के बाद पाकिस्तान को भेजे गए अनुरोध पत्र की आवश्यकता पर भी बल दिया।
      
गृह मंत्री ने कहा मैंने सरबजीत सिंह के परिवार द्वारा दी गई एक दया याचिका की सिफारिश भी की, जिसे 20 वर्ष से अधिक समय से वहां कैद करके रखा गया है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।