शुक्रवार, 25 जुलाई, 2014 | 14:28 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
कालाधन वापस लाने के लिए लम्बा इंतजार नहीं करना होगा : अरूण जेटलीहम काले धन पर प्राप्त सभी सूचनाएं सुप्रीम कोर्ट को दे रहे हैं: जेटलीहमें आर्थिक मंदी से मुकाबला करना है : जेटलीमुद्रास्फीति से केवल ब्याज दर को बढ़ाकर नहीं निपटा जा सकता है : जेटली
 
पाकिस्तानी सेना ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन
जम्मू, एजेंसी
First Published:09-01-13 03:52 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

भारत के दो सैनिकों की बर्बर हत्या से गर्म हुए माहौल के बाद पाकिस्तानी सेना ने दो बार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में भारतीय चौकियों पर गोलीबारी की और गोले दागे।
    
सेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तानी सेना ने कल रात पुंछ जिले के कृष्णाघाटी सेक्टर में नंगीटीकरी अग्रिम ठिकाने पर स्थित भारत की चौकियों पर मोर्टार और ग्रेनेड दागे। प्रवक्ता ने बताया कि आधे घंटे से भी अधिक वक्त तक मोर्टार दागे गये और सीमा पर मौजूद सेना के जवानों ने संयम बरकरार रखते हुए कोई जवाबी कार्रवाई नहीं की।
    
उन्होंने बताया कि दूसरी घटना लगभग चार बजे हुई, जब पाकिस्तानी सैनिकों ने नंगीटीकरी अग्रिम इलाके में भारत की चौकियों पर गोलियां बरसाईं। यह गोलीबारी आधे घंटे से भी अधिक वक्त तक जारी रही। प्रवक्ता ने बताया कि गोलीबारी और मोर्टार हमलों में कोई भी हताहत नहीं हुआ है।
    
गौरतलब है कि पाकिस्तानी सैनिकों ने कल पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा के पास भारतीय सरजमीं में करीब 100 मीटर अंदर घुस कर गश्ती दल पर हमला किया और दो लांस नायकों हेमराज और सुधाकर सिंह की हत्या करने के अलावा दो अन्य सैनिकों को भी घायल कर दिया।
    
सूत्रों ने बताया कि दोनों भारतीय सैनिकों सिर काट दिए गए थे और एक सिर पाकिस्तानी हमलावर अपने साथ ले गये। सेना के प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तानी सेना ने पिछले एक हफ्ते के दौरान जम्मू कश्मीर में चार बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया है।
    
उन्होंने बताया कि छह जनवरी को पाकिस्तानी सैनिकों ने भारत-पाक सीमा पर उरी सेक्टर में भारत की चौकियों पर मोर्टार दागे थे। पाकिस्तानी सैनिकों ने चार जनवरी को नंगीटेकरी इलाके में भारतीय चौकियों पर तीन-चार मोर्टार दागे थे।
    
जम्मू कश्मीर में वर्ष 2012 के दौरान भारत-पाक सीमा पर सीमा पार से गोलीबारी और संघर्षविराम की 71 घटनाएं हुईं, जिनमें चार सुरक्षाकर्मियों समेत सात लोग मारे गए और 15 अन्य घायल हुए।
    
वर्ष 2011 के दौरान सीमा पार से गोलीबारी एवं संघर्षविराम की 51, वर्ष 2010 के दौरान 44 और वर्ष 2009 के दौरान 28 घटनाएं हुईं।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
धूपसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 05:41 AM
 : 06:55 PM
 : 16 %
अधिकतम
तापमान
43°
.
|
न्यूनतम
तापमान
24°