शनिवार, 29 अगस्त, 2015 | 12:51 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
बरूराज से राजद विधायक ब्रजकिशोर सिंह आज भाजपा में होंगे शामिल।बिहारीगंज से जदयू विधायक रेणू कुशवाहा के भाजपा में शामिल होने की सूचना, पटना में आज शामिल हो सकती हैं।
भारतीय सैनिकों का शव क्षत-विक्षत करना अमानवीय: एंटनी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:09-01-2013 12:32:26 PMLast Updated:09-01-2013 01:28:54 PM
Image Loading

भारत ने अपने दो मृत सैनिकों के शव के साथ पाकिस्तानी सैनिकों के व्यवहार को अमानवीय और जम्मू कश्मीर में उनके हमले अत्यंत उकसाने वाला करार दिया है।
   
रक्षा मंत्री ए के एंटनी ने कहा कि भारत सरकार कल पुंछ जिले के मेंढर सेक्टर में हुए इस हमले के बारे में पाकिस्तान के समक्ष अपना विरोध दर्ज करायेगी। उन्होंने कहा कि भारत के सैन्य अभियान महानिदेशक (डीजीएमओ) भी इस घटना को पाकिस्तानी समकक्ष के समक्ष उठायेंगे।
   
एंटनी ने संवाददाताओं से कहा कि पाकिस्तानी सेना का कार्य अत्यंत उकसावे वाला है। जिस तरह से भारतीय सैनिकों के शवों के साथ व्यवहार किया गया, वह अमानवीय है। हम पाकिस्तान के समक्ष अपना विरोध दर्ज करायेंगे और हमारे डीजीएमओ भी अपने समकक्ष से बात करेंगे। हम स्थिति पर करीबी से नजर रखे हुए हैं।
   
सेना के अतिरिक्त महानिदेशक (लोक सूचना) मेजर जनरल एस एल नरसिम्हन ने कहा कि उत्तरी सेना के कमांडर ल़े जनरल के टी परनाइक ने घटनास्थल का दौरा किया और इस बात की पुष्टि की कि दो शवों में से एक क्षत विक्षत था।
    
अन्य सूत्रों ने बताया कि दोनों भारतीय सैनिकों लांस नायक हेमराज और लांस नायक सुधाकर सिंह के सिर काट दिए गए थे और एक सिर पाकिस्तानी हमलावर अपने साथ लेते गए।
   
यह हमला पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा के पास किया गया जब पाकिस्तानी भारतीय सीमा में करीब 100 मीटर तक अंदर आ गए और गश्ती दल पर हमला किया। दो सैनिकों की हत्या के अलावा दो अन्य सैनिकों को उन्होंने घायल किया और उनके हथियार और अन्य सामान ले गये।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image LoadingLIVE: भारत को चौथा झटका, रोहित आउट
भारतीय क्रिकेट टीम ने शनिवार को सिन्हलीज स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर श्रीलंका के खिलाफ तीसरे निर्णायक टेस्ट में बल्लेबाजी करते हुए अपना चौथा विकेट गंवा दिया।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।