बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 06:49 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    झारखंड में पहले चरण में लगभग 62 फीसदी मतदान  जम्मू-कश्मीर में आतंक को वोटरों का मुंहतोड़ जवाब, रिकार्ड 70 फीसदी मतदान  राज्यसभा चुनाव: बीरेंद्र सिंह, सुरेश प्रभु ने पर्चा भरा डीडीए हाउसिंग योजना का ड्रॉ जारी, घर का सपना साकार अस्थिर सरकारों ने किया झारखंड का बेड़ा गर्क: मोदी नेपाल में आज से शुरू होगा दक्षेस शिखर सम्मेलन  दक्षिण एशिया में शांति, विकास के लिए सहयोग करेगा भारत काले धन पर तृणमूल का संसद परिसर में धरना प्रदर्शन 'कोयला घोटाले में मनमोहन से क्यों नहीं हुई पूछताछ' दो राज्यों में प्रथम चरण के चुनाव की पल-पल की खबर
जीएमआर मुद्दे पर भारत ने मालदीव को कड़ा संदेश दिया
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-12-12 10:57 PM
Image Loading

मालदीव को कड़ा संदेश देते हुए भारत ने बुधवार को कहा कि उसे उम्मीद है कि वह (मालदीव) जीएमआर के अनुबंध के मुद्दे पर कानूनी प्रक्रिया पूरी होने तक कोई मनमानी और बदले की कार्रवाई नहीं करेगा।

इसके साथ ही भारत ने चेताया है कि इस तरह की किसी भी कार्रवाई से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

जीएमआर मुद्दे पर एक सवाल के जवाब में विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता ने यह भी कहा कि हम मालदीव से जारी हिंसा और निर्वाचित प्रतिनिधियों के खिलाफ धमकी और अतिवादी भावना के बारे में आ रही रपटों को लेकर चिंतित हैं। उन्होंने मालदीव से यह सुनिश्चित करने को कहा कि कानून का पालन किया जाए और लोकतंत्र के सिद्धांतों व भावना को बरकरार रखा जाए। हम स्थिति पर पैनी नजर रखना जारी रखेंगे।

मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल सामद अब्दुल्ला के साथ विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद की बातचीत का हवाला देते हुए प्रवक्ता ने कहा कि मालदीव के विदेश मंत्री ने यह जिक्र किया है कि उनकी सरकार भारत के साथ द्विपक्षीय संबंधों को खराब नहीं होने देगी और इस मुद्दे पर आम सहमति है। बातचीत के दौरान खुर्शीद ने मालदीव के विदेश मंत्री को पूर्व में हुई बातचीत के बारे में ध्यान दिलाया जिसमें कहा गया था कि जीएमआर मामले में कानूनी प्रक्रिया पूरी होने में समय लगने दिया जाना चाहिए और मालदीव की सरकार को स्थिति हाथ से जाने नहीं देना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि मालदीव की सरकार ने माले में जीएमआर की 50 करोड़ डालर की हवाईअडडा परियोजना रद्द कर दी जिसके बाद अब्दुल्ला ने खुर्शीद को फोन कर भारत की चिंता दूर करने की कोशिश की।

 
 
 
टिप्पणियाँ