रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 12:29 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    एयर इंडिंया के कई पायलट खत्म लाइसेंस पर उड़ा रहे हैं विमान राजनाथ ने युवाओं से शांति और सौहार्द का संदेश फैलाने को कहा  शीतकालीन सत्र से पहले नए योजना निकाय का गठन कर सकती है सरकार  आज मोदी की चाय पार्टी में शामिल हो सकते हैं शिवसेना सांसद शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू मनोहर लाल खट्टर ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, मोदी भी हुये शामिल राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर
भ्रष्ट देशों की सूची में 94वें स्थान पर भारत
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-12-12 09:29 PMLast Updated:05-12-12 09:31 PM
Image Loading

भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक (सीपीआई) 2012 के लिए किए गए सर्वेक्षण में शामिल 176 देशों में भारत 94वें स्थान पर है। भारत को शून्य (अत्यधिक भ्रष्ट) से 100 (अत्यंत पाक-साफ) के पैमाने पर 36 अंक प्राप्त हुए हैं। यह जानकारी ट्रांस्पैरेंसी इंटरनेशनल इंडिया (टीआईआई) ने बुधवार को जाहिर की।

टीआईआई के उपाध्यक्ष एसके अग्रवाल ने बताया कि पिछले वर्ष भारत 183 देशों में 95वें स्थान पर था। लेकिन कार्यपद्धति में सुधार के कारण सीपीआई के 2011 के अंक की तुलना इस वर्ष के अंक से नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा कि भारत को 2011 में भी 36 अंक हासिल हुए थे।

अग्रवाल ने कहा, ‘2012 के सूचकांक में देशों को उनके यहां सार्वजनिक क्षेत्र में भ्रष्टाचार के स्तरों के आधार पर स्थान प्राप्त हुआ है और शून्य से 100 के पैमाने पर अंक दिए गए हैं। शासन व व्यापारिक वातावरण के विश्लेषण में विशेषज्ञता रखने वाले 10 स्वतंत्र आकड़ा स्त्रोतों का इसमें इस्तेमाल किया गया है।’

सोमालिया, उत्तर कोरिया और अफगानिस्तान आठ अंकों के साथ जहां सर्वाधिक भ्रष्ट देश हैं, वहीं डेनमार्क, फिनलैंड और न्यूजीलैंड 90 अंकों के साथ सबसे कम भ्रष्ट देशों में हैं। चीन 39 अंक हासिल कर भ्रष्टाचार के मामले में भारत से बेहतर स्थिति में है, जबकि पाकिस्तान को 27 अंक हासिल हैं।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ