शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 21:32 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
राज्यों को कोयला खानों की करनी होगी निगरानी: सरकार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:27-11-12 02:40 PM
Image Loading

सरकार ने कहा है कि जिन राज्यों में कोयला खानों का आवंटन किया जा रहा है, उन्हें खदानों की नियमित निगरानी के लिए व्यवस्था तैयार करनी होगी और उसके विकास के बारे में तिमाही आधार पर रिपोर्ट सौंपनी होगी।

सरकारी ज्ञापन के अनुसार, संबंधित राज्य सरकार को नियमित तौर पर भौतिक रूप से निगरानी समेत ऐसी व्यवस्था बनानी होगी, जिससे कोयला खानों के विकास की निगरानी नियमित तौर पर हो सके। साथ ही वे इस बारे में तिमाही आधार पर कोयला मंत्रालय या उसके द्वारा अधिकत एजेंसही को रिपोर्ट सौपेंगी।

यह मंत्रालय की निगरानी के अलावा होगा। ज्ञापन में कोयला खानों के आवंट से जुड़ी नियम एवं शतो का जिक्र किया गया है। इस कदम का उद्देश्य उन कंपनियों पर लगाम लगाना है, जिन्हें निजी उपयोग के लिए कोयला खान दिया गया, लेकिन उन्होंने उसका समय पर विकास नहीं किया।

सोमवार को जारी आधिकारिक बयान के अनुसार अबतक सरकार ने विभिन्न सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र की कंपनियों को खुद के उपयोग के लिए 218 कोयला खानों का आवंटन किया है। इनमें से केवल 30 खानों से उत्पादन शुरू हुआ है।
 
 
 
टिप्पणियाँ