बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 11:44 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
बीमारों के लिए मेडिकल वीजा हो: मोदीक्लीज एनर्जी पर जोर देना होगा: मोदी2016 में सार्क का साझा सैटेलाइट: मोदीसार्क देशों के बीच वीजा की जगह बिजनेस ट्रेवलर कार्ड हो: मोदीदेशों को जोड़ने पर हमारा विशेष ध्यान: मोदीक्या इस धीमी रफ्तार की वजह से हमारे बीच मतभेद हैं: मोदीलोगों की उम्मीदों के हिसाब से सार्क की रफ्तार काफी धीमी: मोदीसार्क में काम करने की रफ्तार काफी धीमी: मोदीभारत-नेपाल और भारत-भूटान के बीच नए संबंधों की शुरुआत हुई: मोदीसार्क देशों के लोगों में व्यापार काफी कम: मोदीसबको अच्छा पड़ोसी मिलना चाहिए, सबकी चुनौतियां एक जैसी: मोदीसार्क में आपसी निवेश काफी कम: मोदीअच्छा पड़ोसी विकास में सहायक होता है: मोदीमोदी ने कहा, शुक्रिया नेपालहमें अपनी स्थिति को देखना होगा: नरेंद्र मोदीदक्षिण एशिया के देशों में मिलकर काम करने की जरूरत: मोदीमोदी ने सार्क सम्मेलन के लिए नेपाल को बधाई दीसार्क सम्मेलन में नरेंद्र मोदी का भाषण शुरू
राज्यों को कोयला खानों की करनी होगी निगरानी: सरकार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:27-11-12 02:40 PM
Image Loading

सरकार ने कहा है कि जिन राज्यों में कोयला खानों का आवंटन किया जा रहा है, उन्हें खदानों की नियमित निगरानी के लिए व्यवस्था तैयार करनी होगी और उसके विकास के बारे में तिमाही आधार पर रिपोर्ट सौंपनी होगी।

सरकारी ज्ञापन के अनुसार, संबंधित राज्य सरकार को नियमित तौर पर भौतिक रूप से निगरानी समेत ऐसी व्यवस्था बनानी होगी, जिससे कोयला खानों के विकास की निगरानी नियमित तौर पर हो सके। साथ ही वे इस बारे में तिमाही आधार पर कोयला मंत्रालय या उसके द्वारा अधिकत एजेंसही को रिपोर्ट सौपेंगी।

यह मंत्रालय की निगरानी के अलावा होगा। ज्ञापन में कोयला खानों के आवंट से जुड़ी नियम एवं शतो का जिक्र किया गया है। इस कदम का उद्देश्य उन कंपनियों पर लगाम लगाना है, जिन्हें निजी उपयोग के लिए कोयला खान दिया गया, लेकिन उन्होंने उसका समय पर विकास नहीं किया।

सोमवार को जारी आधिकारिक बयान के अनुसार अबतक सरकार ने विभिन्न सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र की कंपनियों को खुद के उपयोग के लिए 218 कोयला खानों का आवंटन किया है। इनमें से केवल 30 खानों से उत्पादन शुरू हुआ है।

 
 
 
टिप्पणियाँ