रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 10:36 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू मनोहर लाल खट्टर आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, मोदी होंगे शामिल राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में
राज्यसभा में बसपा और सपा का हंगामा, बैठक स्थगित
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-12-12 03:02 PMLast Updated:05-12-12 03:06 PM
Image Loading

सरकार को बाहर से समर्थन दे रहे दलों बसपा और सपा के सदस्यों के अलग-अलग मुद्दों पर हंगामे के कारण राज्यसभा में आज भी कामकाज बाधित रहा, वहीं मुख्य विपक्षी दल भाजपा ने आरोप लगाया कि सरकार नहीं चाहती कि सदन का कामकाज सुचारू रूप से चले।
     
राज्यसभा की सुबह बैठक शुरू होने पर बसपा सदस्यों ने मुंबई में डॉ भीमराव अंबेडकर स्मारक मुद्दे पर हंगामा किया। इस वजह बैठक शुरू होने के कुछ ही देर बाद दोपहर बारह बजे तक स्थगित कर दी गई और आज भी प्रश्नकाल नहीं चल पाया।
    
बसपा प्रमुख मायावती ने अंबेडकर स्मारक बनाए जाने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि वहां कपड़ा मंत्रालय की एक मिल में बरसों से अंबेडकर स्मारक बनाने की मांग को लेकर लोग संघर्ष कर रहे हैं। सरकार इस बारे में क्या कर रही है, उसे बताना चाहिए। सरकार को चाहिए कि वह इस संबंध में आश्वासन दे।
   
सभापति हामिद अंसारी ने कहा कि इस बारे में सुबह एक बैठक हुई थी और दोपहर बारह बजे सरकार की ओर से घोषणा की जाएगी। सभी दलों को इसकी सूचना दे दी गई थी और एजेंडा में भी यह सूचीबद्ध है। उन्होंने कहा कि अभी प्रश्नकाल चलने दिया जाए। लेकिन मायावती ने प्रश्नकाल स्थगित कर सरकार से तुरंत जवाब देने की मांग की।
   
प्रश्नकाल चलने देने की सभापति की अपील के बावजूद बसपा के सदस्य अपनी मांग पर अड़े रहे और आसन के समीप आ गए। हंगामा थमते नहीं देख अंसारी ने बैठक दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी।
   
एक बार के स्थगन के बाद दोपहर 12 बजे बैठक शुरू होने पर संसदीय कार्य राज्य मंत्री राजीव शुक्ला ने मुंबई में अंबेडकर स्मारक के निर्माण के संबंध में कपड़ा मंत्री आनंद शर्मा की ओर से एक बयान दिया।
   
बयान में शर्मा ने कहा कि बाबा साहेब अंबेडकर की अस्थियां मुंबई स्थित नेशनल टेक्सटाइल कापर्ोरेशन की इन्दु मिल की भूमि के नजदीक चैत्य भूमि में रखी गयी हैं। उनके लाखों अनुयायियों के लिए यह एक तीर्थस्थल है।
    
उन्होंने कहा कि जनमानस की भावना और महाराष्ट्र विधानमंडल के दोनों सदनों द्वारा पारित सर्वसम्मत संकल्प को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने यह भूमि उपयुक्त स्मारक के निर्माण की खातिर महाराष्ट्र सरकार को उपलब्ध कराने का विचार किया है।
    
उन्होंने कहा कि सरकार ने इस निर्णय को लागू करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। लेकिन मायावती सहित बसपा के अन्य सदस्य सरकार के इस बयान से संतुष्ट नहीं हुए। मायावती ने कहा कि कल छह दिसंबर को बाबा साहब के महापरिनिर्वाण दिवस के मौके पर सरकार को इस संबंध में आश्वासन देना चाहिए।
    
उन्होंने मांग की कि वस्त्र मंत्री को सदन में आकर यह बताना चाहिए कि सरकार इस स्मारक के निर्माण पर कितना धन खर्च करेगी और इसके लिए कितनी भूमि दी जाएगी। उन्होंने सरकार से सवाल किया कि स्मारक का निर्माण कब शुरू होगा और इसके पूरा होने में कितना समय लगेगा।
    
भाजपा के उपनेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इस संबंध में एक समयसीमा निर्धारित की जानी चाहिए। विभिन्न सदस्यों की मांग पर राजीव शुक्ला ने कहा कि यह बयान स्वत: संज्ञान लेते हुए दिया गया है और इस संबंध में सदस्य वस्त्र मंत्री से बाद में स्पष्टीकरण पूछ सकते हैं।
     
इसके बाद उपसभापति पीजे कुरियन ने आवश्यक दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाए। इसी दौरान सपा के सदस्य अनुसूचित जाति एवं जनजाति के कर्मचारियों को सरकारी नौकरियों में पदोन्नति में आरक्षण का विरोध करते हुए आसन के समीप आ गए और नारेबाजी करने लगे।
    
सपा सदस्यों का विरोध करते हुए कांग्रेस के भी कुछ सदस्य अपने स्थानों से आगे आ गए। कुरियन ने हंगामा कर रहे सदस्यों से अपने स्थानों पर जाने तथा सदन को सुचारू रूप से चलने देने की अपील की।
    
सपा सदस्यों के हंगामे पर आपत्ति जताते हुए सदन में विपक्ष के नेता अरूण जेटली ने कहा कि सरकार ने तय कर लिया है कि वह और उसके समर्थक दल सदन को नहीं चलने देंगे। उन्होंने कहा कि सदन के नेता को यहां आकर बताना चाहिए कि वह सदन चलने देंगे या नहीं।
    
हंगामा थमते नहीं देख कुरियन ने बैठक दिनभर के लिए स्थगित कर दी।
 
 
 
टिप्पणियाँ