शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 17:32 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पश्चिम बंगाल के वीरभूम जिले में पुलिस टीम पर हमलाकांग्रेस में बदल सकता है पार्टी अध्‍यक्षचिदंबरम ने कहा, नेतृत्‍व में बदलाव की जरूरत हैदेहरादून शहर के आदर्श नगर में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्यागर्भवती महिला समेत तीन लोगों की हत्याहत्याकांड के कारणों का अभी खुलासा नहींपुलिस ने पहली नजर में रंजिश का मामला बताया
आरोपी युवकों के बचाव में उतरे केजरीवाल
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:25-12-12 08:03 PMLast Updated:25-12-12 08:17 PM
Image Loading

अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी (एएपी) ने आरोप लगाया है कि दिल्ली पुलिस ने रविवार को इंडिया गेट पर हुई हिंसा में अपने एक कांस्टेबल की मौत के मामले में आठ लोगों को फंसाया है।

एएपी के संयोजक केजरीवाल ने कहा कि पुलिस ने इन लोगों के बारे में कोई सबूत नहीं दिया है। इन लोगों को अलग-अलग स्थानों से गिरफ्तार किया गया। ये लोग गैंगरेप की पीड़िता के लिए इंसाफ की मांग करते हुए शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि पुलिस यह कहकर मीडिया और जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रही है कि एएपी कार्यकर्ता मनीष सिसोदिया ने जमानत की राशि दी। पुलिस का यह दावा गलत है। केजरीवाल ने कहा कि पुलिस इन आठ बेकसूर युवकों को फंसाने का प्रयास कर रही है ताकि ताकत के दम पर इस आंदोलन को कुचला जा सके।

उन्होंने कांस्टेबल की मौत को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कहा कि इस मौत के लिए जो भी जिम्मेदार हो, उसे सजा मिले। अगर एएपी का कोई कार्यकर्ता इसमें शामिल है तो उसे भी दंडित किया जाए, लेकिन हम निर्दोष लोगों को फंसाने को स्वीकार नहीं करेंगे।

केजरीवाल ने कहा कि पुलिस यह दिखाना चाहती है कि बाबा रामदेव, जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह एवं एएपी सदस्यों के शामिल होने से आंदोलन हिंसक हो गया।
 
 
 
टिप्पणियाँ