सोमवार, 22 दिसम्बर, 2014 | 20:20 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
सोनिया ने लिया न्याय दिलाने का संकल्प
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-12-12 04:49 PM
Image Loading

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार को वचन दिया कि देश की प्यारी बेटी को न्याय मिलेगा और उसकी लड़ाई निरर्थक नहीं जाएगी क्योंकि बलात्कारियों को तेजी से कड़ी से कड़ी सजा सुनिश्चित की जाएगी।

सोनिया ने संभवत: पहली बार टेलीविजन पर की गई टिप्पणी में कहा कि आज हर भारतीय को कष्ट है क्योंकि उन्होंने अपनी प्यारी बेटी, आंखों का तारा बहन, 23 साल की एक युवती खो दी, जिसका आशाओं, सपनों और वायदों से भरा जीवन आगे पड़ा था। हम हृदय से उसके माता पिता, परिवार के साथ हैं। पूरा देश उनकी पीड़ा का साझेदार है। इस त्रासदीपूर्ण घटना के परिप्रेक्ष्य में शांति और अमन कायम रखने की अपील करते हुए सोनिया ने कहा कि आज हम संकल्प करते हैं कि उसे न्याय मिलेगा और उसकी लडाई व्यर्थ नहीं जाएगी।

उन्होंने कहा कि यह त्रासदी हमें अपने देश की सभी महिलाओं की सुरक्षा के लिए पूरी शक्ति और हमारे कानूनों और प्रशासन की सभी शक्तियों से लडाई लडने के इरादे को मजबूत करती है। इससे यह भी सुनिश्चित होगा कि ऐसे काम करने वालों को कड़ी से कड़ी सजा मिले।

सोनिया ने कहा कि इससे उन व्यापक शर्मनाक सामाजिक नजरियों और मनोवृत्तियों से लडाई की हमारी प्रतिबद्धता मजबूत होती है जो पुरुषों को महिलाओं और लड़कियों के साथ इतनी बेदर्दी से बलात्कार और छेड़छाड़ की अनुमति देता है। इस त्रासदी को लेकर आज देश भर में गुस्सा फूटा और लोग सड़कों पर उतर आए। सोनिया ने कहा कि आप जिन लोगों ने अपने गुस्से का इजहार सार्वजनिक रूप से किया है, जो लोग उस लड़की के समर्थन में उतरे, मैं सभी को आश्वासन देना चाहती हूं कि आपकी आवाज सुनी गई है।
 
उन्होंने कहा कि एक महिला और मां होने के नाते मुझे पता है कि आप कैसा महसूस कर रहे हैं। मैं आपसे अपील करती हूं कि शांति बनाए रखें और महिलाओं के खिलाफ हिंसा से लड़ाई के सामूहिक इरादे को मजबूत करने में मदद करें।
 
सामूहिक बलात्कार घटना पर पहली सार्वजनिक प्रतिक्रिया में सोनिया ने कल कहा था कि ऐसा बर्बर हमला करने वालों के खिलाफ तेजी से कार्रवाई होनी चाहिए। साथ ही उन्होंने उम्मीद जतायी थी सिंगापुर में इलाज करा रही युवती ठीक हो जाएगी। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के मुख्यालय पर कांग्रेस के 127वें स्थापना दिवस के मौके पर पारंपरिक रूप से नए साल की शुभकमानाएं देनी वाली सोनिया कल इससे परहेज किया। उन्होंने कहा कि आज ऐसा नहीं होगा क्योंकि हमें युवती की चिन्ता है जो बर्बर हमले के बाद जीवन के लिए संघर्षरत है। उन्होंने कहा कि हमारी आज यही इच्छा है कि वह ठीक हो और हमारे पास लौटे और इस बर्बर काम को अंजाम देने वालों को दंडित करने में समय नहीं लगे।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड