शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 16:50 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पश्चिम बंगाल के वीरभूम जिले में पुलिस टीम पर हमलाकांग्रेस में बदल सकता है पार्टी अध्‍यक्षचिदंबरम ने कहा, नेतृत्‍व में बदलाव की जरूरत हैदेहरादून शहर के आदर्श नगर में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्यागर्भवती महिला समेत तीन लोगों की हत्याहत्याकांड के कारणों का अभी खुलासा नहींपुलिस ने पहली नजर में रंजिश का मामला बताया
संसदीय समिति ने दिल्ली पुलिस आयुक्त को किया तलब
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:27-12-12 05:30 PMLast Updated:27-12-12 08:33 PM
Image Loading

सामूहिक बलात्कार की वारदात के बाद दिल्ली सहित देश भर में फूटे गुस्से और जोरदार प्रदर्शनों के बीच संसद की एक समिति ने गुरुवार को दिल्ली के पुलिस आयुक्त नीरज कुमार से जवाब-तलब किया। समिति ने अधिकारी स्तर पर रिक्त पद और गश्त के लिए वाहनों की कमी जैसे कमियों की ओर इशारा किया।

गृह संबंधी संसद की स्थायी समिति के समक्ष पुलिस आयुक्त पेश हुए और समिति ने उनसे दिल्ली में महिलाओं पर हो रहे अत्याचार पर सवाल किया। गृह सचिव आर के सिंह को भी समिति ने तलब किया था, लेकिन वह नहीं आ सके। नीरज कुमार ने वारदात को सिलसिलेवार ढंग से बताया और समिति से कहा कि पुलिस नियंत्रण कक्ष वैनें ने अपराध की सूचना मिलते ही तत्काल हरकत में आयीं।

समझा जाता है कि उन्होंने समिति से कहा है कि पुलिस की जांच से आरोपियों को जल्द से जल्द पकडा जा सका।

पुलिस आयुक्त से सवाल किये जाते समय कांग्रेस सदस्य संदीप दीक्षित ने कहा कि कमरों में बैठे अधिकारियों और जमीन पर काम कर रहे अधिकारियों के बीच कोई तालमेल नहीं है। दीक्षित ने ही बर्बर बलात्कार की शिकार छात्रा को न्याय दिलाने के लिए इंडिया गेट पर प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस कार्रवाई के लिए नीरज कुमार के इस्तीफे की मांग की थी।

समझा जाता है कि दीक्षित ने कहा कि थाना प्रभारी से निचले स्तर के अधिकारी अपने वरिष्ठों के आदेश को कम ही मानते हैं और अक्‍सर अपने आप कार्रवाई कर देते हैं। संदीप दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे हैं, जो दिल्ली पुलिस को राज्य के नियंत्रण लाने की मांग कर रही हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ