शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 00:19 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
गैंगरेप पर हाई कोर्ट ने भी चिंता जताई
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:18-12-2012 11:15:11 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

दिल्ली उच्च न्यायालय ने पैरा-मेडिकल छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म और उसकी गंभीर हालत पर मंगलवार को चिंता प्रकट की। न्यायाधीशों ने कहा कि इस घटना से हम भी आहत हैं।

अदालत ने यह टिप्पणी तब की, जब महिला वकीलों के एक समूह ने कहा कि रविवार की रात हुई वारदात के मामले में कार्रवाई जरूरी है और शीघ्र न्याय के लिए एक त्वरित अदालत गठित की जानी चाहिए। न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति विपिन सिंघवी की खंडपीठ ने कहा, ‘कुछ व्यक्तियों ने शर्मसार करने का प्रयास किया, वे सोचते हैं कि कानून एवं व्यवस्था के साथ वे खेल सकते हैं। हम बहुत आहत हैं। हम इस मामले के प्रति सचेत हैं। हमें एक दिन का मौका दीजिए, हम इस पर गौर करेंगे।’

खंडपीठ ने कहा, ‘क्या किया जाना है, इस पर हम पहले ही चर्चा कर चुके हैं। इस घटना ने हम सभी को आहत किया है। जो भी करने की जरूरत होगी, हम करेंगे। एक दिन इंतजार कीजिए।’ उल्लेखनीय है कि रविवार की रात चलती बस में पहले युवती से छेड़छाड़ की गई और उसके मित्र द्वारा विरोध करने पर आरोपियों ने दोनों के साथ मारपीट की और युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। बाद में दोनों को दक्षिणी दिल्ली के महिपालपुर के पास बस से फेंक दिया गया। युवती की हालत नाजुक है, उसे सफदरजंग अस्पताल में वेंटिलेटर पर रखा गया है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।