शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 13:15 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
समारोह में बीजेपी नेता अमित शाह भी मौजूदप्रधानमंत्री ने सफाई अभियान में मदद के लिये की तारीफआजादी के बाद माहौल बन गया था कि सब सरकार करेगी, लेकिन अब सब मिलकर करेंगे: मोदीजितना स्वास्थ्य जरूरी उतना ही स्वास्थ्य के लिये जागरुकता : मोदीमोदी ने कहा, सफाई राष्ट्रीय कर्तव्य हैबीजेपी के दीवाली समारोह में पीएम मोदीपत्रकारों से कहा, आपसे काफी दोस्ताना रिश्ता रहा हैमैं भी आपके लिये कुर्सियां लगाता था : मोदीमोदी : कभी कभार आपसे दृष्टी भी मिलती है
गैंगरेप पर हाई कोर्ट ने भी चिंता जताई
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:18-12-12 11:15 PM

दिल्ली उच्च न्यायालय ने पैरा-मेडिकल छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म और उसकी गंभीर हालत पर मंगलवार को चिंता प्रकट की। न्यायाधीशों ने कहा कि इस घटना से हम भी आहत हैं।

अदालत ने यह टिप्पणी तब की, जब महिला वकीलों के एक समूह ने कहा कि रविवार की रात हुई वारदात के मामले में कार्रवाई जरूरी है और शीघ्र न्याय के लिए एक त्वरित अदालत गठित की जानी चाहिए। न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति विपिन सिंघवी की खंडपीठ ने कहा, ‘कुछ व्यक्तियों ने शर्मसार करने का प्रयास किया, वे सोचते हैं कि कानून एवं व्यवस्था के साथ वे खेल सकते हैं। हम बहुत आहत हैं। हम इस मामले के प्रति सचेत हैं। हमें एक दिन का मौका दीजिए, हम इस पर गौर करेंगे।’

खंडपीठ ने कहा, ‘क्या किया जाना है, इस पर हम पहले ही चर्चा कर चुके हैं। इस घटना ने हम सभी को आहत किया है। जो भी करने की जरूरत होगी, हम करेंगे। एक दिन इंतजार कीजिए।’ उल्लेखनीय है कि रविवार की रात चलती बस में पहले युवती से छेड़छाड़ की गई और उसके मित्र द्वारा विरोध करने पर आरोपियों ने दोनों के साथ मारपीट की और युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। बाद में दोनों को दक्षिणी दिल्ली के महिपालपुर के पास बस से फेंक दिया गया। युवती की हालत नाजुक है, उसे सफदरजंग अस्पताल में वेंटिलेटर पर रखा गया है।
 
 
 
टिप्पणियाँ