सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 12:42 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    रांची: NRI को किया अगवा, पैसे लूटे, मारपीट कर फेंका देहरादून में 14 घंटे से लगातार हो रही है बारिश, जनता परेशान बरसात के पानी में खेल रहे थे तीन दोस्त, करंट लगने से हुई मौत झारखंड के लातेहार में अनियंत्रित ट्रक घर में घुसा, जीप भी पलटी अनिश्चित भविष्य की ओर यूनान, अंतरराष्ट्रीय दानदाताओं की शर्तें ठुकराई  व्यापमं: महिला सब इंस्पेक्टर की संदिग्ध मौत, पुलिस ने कहा आत्महत्या मोदी 6 देशों के दौरे पर रवाना, ब्रिक्स बैठक में लेंगे हिस्सा शिखर पर पहुंचने के बावजूद सिविल सेवा में महिलाओं की हिस्सेदारी कम दिल्ली में झमाझम बारिश, लोगों को मिली गर्मी से राहत आयुध फैक्टरियों में 67 हजार पदों को भरने की प्रक्रिया जल्द होगी शुरू
गैंगरेप पर हाई कोर्ट ने भी चिंता जताई
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:18-12-12 11:15 PM

दिल्ली उच्च न्यायालय ने पैरा-मेडिकल छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म और उसकी गंभीर हालत पर मंगलवार को चिंता प्रकट की। न्यायाधीशों ने कहा कि इस घटना से हम भी आहत हैं।

अदालत ने यह टिप्पणी तब की, जब महिला वकीलों के एक समूह ने कहा कि रविवार की रात हुई वारदात के मामले में कार्रवाई जरूरी है और शीघ्र न्याय के लिए एक त्वरित अदालत गठित की जानी चाहिए। न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति विपिन सिंघवी की खंडपीठ ने कहा, ‘कुछ व्यक्तियों ने शर्मसार करने का प्रयास किया, वे सोचते हैं कि कानून एवं व्यवस्था के साथ वे खेल सकते हैं। हम बहुत आहत हैं। हम इस मामले के प्रति सचेत हैं। हमें एक दिन का मौका दीजिए, हम इस पर गौर करेंगे।’

खंडपीठ ने कहा, ‘क्या किया जाना है, इस पर हम पहले ही चर्चा कर चुके हैं। इस घटना ने हम सभी को आहत किया है। जो भी करने की जरूरत होगी, हम करेंगे। एक दिन इंतजार कीजिए।’ उल्लेखनीय है कि रविवार की रात चलती बस में पहले युवती से छेड़छाड़ की गई और उसके मित्र द्वारा विरोध करने पर आरोपियों ने दोनों के साथ मारपीट की और युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। बाद में दोनों को दक्षिणी दिल्ली के महिपालपुर के पास बस से फेंक दिया गया। युवती की हालत नाजुक है, उसे सफदरजंग अस्पताल में वेंटिलेटर पर रखा गया है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड