बुधवार, 01 जुलाई, 2015 | 01:13 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    'मेंढक' को है आपकी दुआओं की जरूरत, कोमा में है आपका चहेता किरदार सुनंदा पुष्कर केस में शशि थरूर का लाइ डिटेक्टर टेस्ट कराने की तैयारी में जुटी पुलिस शर्मनाक: सीरिया में आईएस ने दो महिलाओं का सिर कलम किया उपचुनाव में रिकॉर्ड डेढ लाख वोटों के अंतर से जीतीं जयलिलता, सभी विरोधी उम्मीदवारों की जमानत जब्त धौलपुर महल विवाद: कांग्रेस ने राजे के खिलाफ नए सबूत पेश किए, भाजपा बोली, छवि बिगाड़ने की साजिश ट्विटर पर जॉन ने खोली 'वेलकम बैक' की रिलीज़ डेट, आप भी जानिए बांग्लादेश में उड़ा टीम इंडिया का मजाक, इन क्रिकेटरों को दिखाया आधा गंजा गांगुली ने टीम इंडिया में हरभजन की वापसी का किया स्वागत रोहित समय के पाबंद हैं, उनके साथ काम करना मुश्किल: शाहरूख खान तेंदुलकर ने अजिंक्य रहाणे को दीं शुभकामनाएं
दिल्ली सरकार-पुलिस आयुक्त के बीच तेज हुई जुबानी जंग
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:26-12-12 11:08 PMLast Updated:27-12-12 09:45 AM
Image Loading

सामूहिक बलात्कार मामले में दिल्ली सरकार ने पुलिस आयुक्त नीरज कुमार पर बुधवार को भी दबाव बनाना जारी रखा और कहा कि उन्हें पीड़िता का बयान दर्ज करने वाली सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट  की कार्यप्रणाली पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है।

मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की अगुआई में हुई मंत्रिमंडल की एक बैठक के बाद दिल्ली के मुख्य सचिव पी के त्रिपाठी ने कहा कि पुलिस आयुक्त को एसडीएम की कार्यप्रणाली पर फैसला लेने का अधिकार नहीं है। यह पूछे जाने पर कि क्या इस मुद्दे को राजनैतिक फायदे के लिए तूल दिया जा रहा है उन्होंने इन आरोपों का खंडन किया और कहा कि इस मुद्दे पर कोई राजनीति नहीं हो रही है।

उल्लेखनीय है कि पीड़िता का पहली बार बयान दर्ज करने वाली एसडीएम उषा चतुर्वेदी ने आरोप लगाया था कि बयान दर्ज करने के दौरान दिल्ली पुलिस के तीन आला अधिकारियों ने हस्तक्षेप की कोशिश की थी।

सूत्रों का कहना है कि मंत्रिमंडल ने उषा की ओर से लिखे पत्र पर चर्चा की। उन्होंने बताया कि मंत्रिमंडल ने शीला की ओर से केन्द्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे को लिखे पत्र में की गई मांग का भी समर्थन किया। इस पत्र में मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की गई है।

दिल्ली के एक मंत्री ने कहा कि मंत्रिमंडल का मानना है कि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ अत्यधिक बलप्रयोग किया, जो स्वीकार्य नहीं है।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड