सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 19:09 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    VIDEO: आकाशवाणी दिल्ली परिसर में सिपाही पर गोलीबारी कुंआरी मां बन सकती है बच्चे की अभिभावक  देश की आवाज बनेगी रांची की टुंपा स्पाइसजेट ऑफर: अब सिर्फ 1899 रुपये में लें हवाई यात्रा का मजा  पीएम नरेंद्र मोदी पहुंचे उज्बेकिस्तान, ब्रिक्स बैठक में लेंगे हिस्सा झारखंड: खूंटी के अड़की में युवक की हत्या पलामू के चैनपुर में लुटेरों ने युवक को गोली मारी, गंभीर रांची ITI के लापता छात्र का शव रामगढ़ से बरामद व्यापमं घोटाला: ट्रेनी SI की मिली लाश, कांग्रेस ने की सीएम शिवराज को बर्खास्त करने की मांग दुमका-रामपुर हाट मार्ग 15 घंटों से जाम
दिल्ली गैंगरेप मामला सबसे अधिक भयानक: सुप्रीम कोर्ट
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-01-13 10:25 PMLast Updated:04-01-13 11:45 PM
Image Loading

उच्चतम न्यायालय ने 16 दिसंबर को चलती बस में 23 वर्षीय युवती के साथ सामूहिक बलात्कार और नृशंस हत्या की वारदात को हाल के दिनों का सबसे भयानक अपराध बताया है।

न्यायमूर्ति आफताब आलम और न्यायमूर्ति रंजना प्रकाश देसाई की खंडपीठ ने मणिपुर में मुठभेड़ में लोगों की कथित हत्याओं को लेकर दायर जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान दिल्ली के सामूहिक बलात्कार कांड का जिक्र करते हुये कहा कि आरोपियों पर कानूनी प्रावधानों के अनुरूप मुकदमा चलाना होगा।

मणिपुर में मुठभेड़ों में लोगों को मारे जाने को न्यायोयित ठहराने के राज्य सरकार के प्रयासों पर टिप्पणी करते हुये न्यायाधीशों ने कहा कि हाल के दिनों में यह सबसे भयानक अपराध है, लेकिन ऐसे मामले में भी अभियुक्तों ने जान से नहीं मारा जा सकता है। राज्य सरकार का कहना था कि ये व्यक्ति राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में लिप्त थे।

न्यायाधीशों ने राज्य सरकार की इन दलीलों पर कड़ी आपत्ति करते हुये कहा कि इस देश में जब तक यहां हम हैं और कानून का शासन है, हम आरोपियों को गोली मारने की इजाजत नहीं दे सकते।

न्यायाधीशों ने कहा कि मैं आपकी की इस दलील पर कड़ी आपत्ति करता ह्रूं। आप याचिकाकर्ताओं को बगैर किसी सबूत के कैसे राष्ट्र विरोधी कह सकते हैं राष्ट्रवाद पर सिर्फ राज्य का ही एकाधिकार नहीं है। आपको सिर्फ इसलिये इन लोगों को राष्ट्रविरोधी कहने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि आप सरकार हैं। ये आरोप ही है जो लोगों को राष्ट्र विरोधी बनाते हैं।

न्यायालय ने कहा कि उन पर उंगली मत उठाइये। उन्हें राष्ट्रवादी होने का परिचय क्यों देना चाहिए हम सुरक्षाकर्मियों और आम आदमी के निधन पर समान रूप से दुख व्यक्त करते हैं।

न्यायाधीशों ने इसी दौरान दिल्ली के सामूहिक बलात्कार कांड का जिक्र करते हुये वकीलों से कहा कि वे नाबालिग आरोपी के लिये किशोर शब्द का इस्तेमाल नही करें। याचिकाकर्ता ने जब यह दलील दी कि मणिपुर में फर्जी मुठभेड़ में किशोर भी मारा गया तो न्यायालय ने कहा कि किशोर अच्छी व्याख्या नहीं हैं। हमने हाल के मामले में देखा कि किशोर ऐसा अपराध करते हैं। यह सिर्फ एक व्यक्ति है।

आतंकी गतिविधियों पर टिप्पणी करते हुये न्यायाधीशों ने कहा कि इस देश में यह देखना दुर्भाग्यपूर्ण ही है कि प्रधानमंत्री और एक पूर्व प्रधानमंत्री की हत्या कर दी गयी, लेकिन यह हमें आरोपियों को जान से मारने का अधिकार नहीं देता है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड