गुरुवार, 29 जनवरी, 2015 | 15:49 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पटना विश्वविद्यालय के सिनेट की बैठक के दौरान विरोध कर रहे छात्रों पर लाठी चार्ज, छपरा संघ के चुनाव की मांग को लेकर विरोधमुरादाबाद: वकीलों ने दिया सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन। आज का आंदोलन समाप्त। कल रेल रोकेंगे। वकीलों की सीओ से नोंकझोंक भी हुई।लोकायुक्त की रिपोर्ट के बाद यूपी के दो विधायक बर्खास्तसंभल के मोहल्ला ठेर में रूम हीटर से दम घुटने की वजह से एक व्यापारी की मौत हो गई। कमरे में व्यापारी के साथ सो रही उसकी पत्नी व एक साल के मासूम की हालत भी गंभीर।अमरोहा के मेहंदीपुर गांव में नकली दूध बनाने की फैक्टी पकड़ी. पचास लीटर दूध व सामान बरामद. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की कार्रवाई.बरेली के फतेहगंज पश्चिमी कस्बे में प्रॉपर्टी डीलर के घर लाखों का डाकाआगरा : हाईकोर्ट बेंच को लेकर वकीलों में आपसी टकराव, संघर्ष समिति और ग्रेटर बार के पदाधिकारी भिड़े, बड़ी संख्या में फोर्स तैनात, पुलिस को फटकारनी पड़ीं लाठियांरामपुर के लालपुर में ट्रैक्टर ने बालक को रौंदा, मौत। हादसे के बाद हंगामा।
बलवंत को 31 मार्च को दी जाएगी फांसी, पंजाब गरम
पटियाला, एजेंसी First Published:27-03-12 04:30 PMLast Updated:27-03-12 11:37 PM
Image Loading

पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या के दोषी बलवंत सिंह राजोआना ने मंगलवार को अकाली नेताओं को धोखेबाज करार देते हुए कहा कि वे उसके लिए क्षमादान की मांग नहीं करें। शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंध कमेटी तथा पंजाब सरकार राजोआना की मौत की सजा को माफ करने की वकालत कर रहे हैं।
   
पटियाला की केंद्रीय जेल से लिखे पत्र में उसने कहा कि मुझे नीली पगड़ी वाले अकाली नेताओं से कोई मदद नहीं चाहिए जिन्होंने सिखों को न्याय दिलाने के लिए अभी तक कुछ नहीं किया। अकाली नेताओं ने अब बोलना इसलिए शुरू कर दिया क्योंकि उन्हें डर है कि अगर वे ऐसा नहीं करेंगे तो उन्हें समर्थन नहीं मिलेगा।
   
पत्र की प्रतियां राजोआना की बहन कमलदीप कौर ने केंद्रीय जेल के बाहर बांटी, जहां वह बंद है। राजोआना ने खत में यह भी लिखा है कि अकाली नेता निर्दोष सिखों को दिल्ली से न्याय दिलाने में विफल रहे और अब उन्हें उसे माफी दिलाने के लिए दिल्ली के सामने अपनी पगड़ी उतारने की जरुरत नहीं।
   
राजोआना ने कहा कि अकाली नेता दिल्ली से हाथ जोड़कर मेरे लिए सहानुभूति पाने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन इतिहास सिखों को न्याय दिलाने में उनकी नाकामी के लिए कभी उन्हें माफ नहीं करेगा।
   
बेअंत सिंह के परिजनों और अमरिंदर सिंह की ओर से समर्थन मिलने के बारे में राजोआना ने कहा कि उनसे मदद नहीं चाहता जो हत्यारों के नुमांइदे हैं।
   
चंडीगढ़ में विशेष सीबीआई अदालत ने राजोआना और जगतार सिंह हवाड़ा को बेअंत सिंह हत्याकांड में एक अगस्त, 2007 को फांसी की सजा सुनाई थी। तीन अन्य को बेअंत सिंह की हत्या की साजिश रचने के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गई, जिनमें लखविंदर सिंह, गुरमीत सिंह और शमशेर सिंह हैं।
   
राजोआना ने न तो फैसले के खिलाफ अपील की और ना ही कोई दया याचिका दाखिल की। हवाड़ा को सुनाई गयी मौत की सजा को उम्रकैद में तब्दील कर दिया गया था। उसने फैसले के खिलाफ अपील दाखिल की थी।
   
31 अगस्त, 1995 को बेअंत सिंह जब चंडीगढ़ में सचिवालय स्थित अपने दफ्तर से बाहर निकले तो आत्मघाती हमलावर दिलावर सिंह ने उन्हें विस्फोट में मार डाला। घटना में 17 और लोग मारे गये थे। दिलावर के विफल रहने की स्थिति में राजोआना दूसरे मानव बम के तौर पर हमले के लिए तैयार था।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड