बुधवार, 01 जुलाई, 2015 | 07:22 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    'मेंढक' को है आपकी दुआओं की जरूरत, कोमा में है आपका चहेता किरदार सुनंदा पुष्कर केस में शशि थरूर का लाइ डिटेक्टर टेस्ट कराने की तैयारी में जुटी पुलिस शर्मनाक: सीरिया में आईएस ने दो महिलाओं का सिर कलम किया उपचुनाव में रिकॉर्ड डेढ लाख वोटों के अंतर से जीतीं जयलिलता, सभी विरोधी उम्मीदवारों की जमानत जब्त धौलपुर महल विवाद: कांग्रेस ने राजे के खिलाफ नए सबूत पेश किए, भाजपा बोली, छवि बिगाड़ने की साजिश ट्विटर पर जॉन ने खोली 'वेलकम बैक' की रिलीज़ डेट, आप भी जानिए बांग्लादेश में उड़ा टीम इंडिया का मजाक, इन क्रिकेटरों को दिखाया आधा गंजा गांगुली ने टीम इंडिया में हरभजन की वापसी का किया स्वागत रोहित समय के पाबंद हैं, उनके साथ काम करना मुश्किल: शाहरूख खान तेंदुलकर ने अजिंक्य रहाणे को दीं शुभकामनाएं
पूर्व थलसेना प्रमुख वीके सिंह करेंगे संसद का घेराव
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:03-12-12 03:09 PM
Image Loading

पूर्व थलसेना प्रमुख वीके सिंह मंगलवार को गन्ना किसानों के संसद का घेराव आंदोलन में शामिल होंगे। आयोजकों ने बताया कि सेवानिवृत्ति के बाद सामाजिक कार्यकर्ता बने सिंह गन्ना किसानों के आंदोलन में शामिल होंगे।
    
राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन इस प्रदर्शन का आयोजन कर रहा है और इसमें किसान नेताओं और सिविल सोसाइटी सदस्यों के शामिल होने की संभावना है।
    
पूर्व थलसेना प्रमुख दो नवंबर को इस संगठन के संवाददाता सम्मेलन में शामिल हुए थे। संवाददाता सम्मेलन में घोषणा की गयी थी कि अगर सरकार रंगराजन समिति की रिपोर्ट को खारिज नहीं करती है तो चार दिसंबर को संसद का घेराव किया जाएगा। रंगराजन समिति की यह रिपोर्ट चीनी क्षेत्र को मुक्त करने से संबंधित है।
     
संगठन के संयोजक वी एम सिंह ने कहा कि पूर्व थलसेना प्रमुख घेराव में शामिल होंगे। हमने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर 30 नवंबर तक का समय दिया था। हम अपनी घोषणा के अनुसार विरोध की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।
     
रंगराजन समिति ने 80 हजार करोड़ रुपये के अति नियंत्रित चीनी उद्योग को चरणबद्ध तरीके से मुक्त करने की सिफारिश की है। आयोजकों का कहना है कि समिति की सिफारिशों से उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, बिहार और उत्तर प्रदेश के किसान प्रभावित होंगे।
     
उन्होंने दावा किया कि आयोग ने सिर्फ चीनी मिलों की ओर से काम किया और किसानों के हितों की अनदेखी की। उन्होंने कहा कि पहले से ही मुसीबतों का सामना कर रहे किसानों की दुश्वारियां और बढ़ जाएंगी।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड