बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 04:29 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    झारखंड में पहले चरण में लगभग 62 फीसदी मतदान  जम्मू-कश्मीर में आतंक को वोटरों का मुंहतोड़ जवाब, रिकार्ड 70 फीसदी मतदान  राज्यसभा चुनाव: बीरेंद्र सिंह, सुरेश प्रभु ने पर्चा भरा डीडीए हाउसिंग योजना का ड्रॉ जारी, घर का सपना साकार अस्थिर सरकारों ने किया झारखंड का बेड़ा गर्क: मोदी नेपाल में आज से शुरू होगा दक्षेस शिखर सम्मेलन  दक्षिण एशिया में शांति, विकास के लिए सहयोग करेगा भारत काले धन पर तृणमूल का संसद परिसर में धरना प्रदर्शन 'कोयला घोटाले में मनमोहन से क्यों नहीं हुई पूछताछ' दो राज्यों में प्रथम चरण के चुनाव की पल-पल की खबर
आईओसी टर्मिनल में लगी आग में तीन लोगों की मौत
सूरत, एजेंसी First Published:06-01-13 10:02 PM

सूरत के हजीरा में स्थित इंडियन आयल कारपोरेशन (आईओसी) टर्मिनल के भंडारण टैंक संख्या चार में लगी आग पर दमकल कर्मियों ने 21 घंटों के अभियान के बाद काबू तो पा लिया लेकिन इस घटना में तीन लोगों की मौत हो गई।

सूरत के जिला कलक्टर जयप्रकाश शिवहरे ने कहा कि दो लोगों के शव आग में जले टैंक संख्या चार के पास से बरामद हुए हैं। इनकी पहचान कर ली गई है लेकिन तीसरे शव को अभी नहीं पहचाना जा सका है। शिवहरे ने कहा कि मारे गए तीनों लोग अनुबंध पर काम करने वाले कर्मचारी थे। उन्होंने कहा कि हम पिछले 21 घंटे के अभियान के बाद आग पर काबू पाने में सफल रहे। उन्होंने कहा कि अभियान अब भी जारी है ताकि स्थिति पर पूरी तरह से नियंत्रण पाया जा सके।

शिवहरे ने कहा कि जब हमें कल दोपहर को आईओसी टर्मिनल के एक पेट्रोल टैंक में आग लगने की खबर मिली। आग विशेषज्ञों की राय थी कि आग पर काबू पाने के लिए महत्वपूर्ण बात आग को अन्य भंडारण टैंक तक पहुंचने से रोकना और टैंक संख्या चार के पेट्रोल को पूरी तरह से जल जाने देना रहेगी।

हाजीरा में आईओसी के आसपास नौ टैंक हैं। आग लगने के समय टैंक संख्या चार में करीब पांच हजार किलोलीटर पेट्रोल था। उन्होंने कहा कि दमकलकर्मियों ने आग को एक टैंक से अन्य तक फैलने से रोकने में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने कहा कि टैंक संख्या चार का पूरा पेट्रोल लगभग जल चुका है।

वर्ष 2009 से यह दूसरा मामला है जब आईओसी भंडारण डिपो में भयंकर आग लगी है। 29 अक्तूबर 2009 को जयपुर टर्मिनल में आग लगी थी। 11 दिन तक लगी इस आग में 11 लोग मारे गए और करीब 280 करोड़ रुपये की हानि हुई थी। आईओसी ने आग के कारणों का पता लगाने के लिए आंतरिक जांच के आदेश दिए हैं।

 
 
 
टिप्पणियाँ