शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 14:00 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
कांग्रेस में बदल सकता है पार्टी अध्‍यक्षचिदंबरम ने कहा, नेतृत्‍व में बदलाव की जरूरत हैमेरठ में बम धमाकापीएल शर्मा रोड की कई दुकाने खाकपूलिस की जांच जारी, बम निरोधक दस्ता पहुंचाएसएसपी ने किसी आतंकी साजिश से किया इनकारदेहरादून शहर के आदर्श नगर में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्यागर्भवती महिला समेत तीन लोगों की हत्याहत्याकांड के कारणों का अभी खुलासा नहींपुलिस ने पहली नजर में रंजिश का मामला बतायाकोच्चि एयरपोर्ट पर जांच जारीविमान पर आत्मघाती हमले का खतराएयर इंडिया की फ्लाइट पर फिदायीन हमसे का खतरामुंबई, अहमदाबाद, कोच्चि में हाई अलर्ट
कैश सब्सिडी पर आज चुनाव आयोग करेगा फैसला
नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान First Published:04-12-12 09:57 AMLast Updated:04-12-12 11:54 AM
Image Loading

चुनाव आयोग मंगलवार को केंद्र की कैश सब्सिडी योजना को लेकर अपना फैसला सुनाएगा। इस योजना के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी ने चुनाव आयोग से शिकायत की है।

भाजपा का कहना है कि केंद्र ने इस योजना की घोषणा करके राज्य में चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया है। यह योजना गुजरात के चार जिलों में एक जनवरी से ही शुरू होनी है। हालांकि केंद्र इन आरोपों से पल्ला झाड़ रहा है।

भाजपा की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए आयोग ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मागा था। केंद्र ने अपने दिए जवाब में भाजपा और अन्य पार्टियों द्वारा लगाए गए सवालों का खंडन किया है। पीएमओ द्वारा चुनाव आयोग के नोटिस के जवाब में कहा कि इस योजना की घोषणा चार माह पहले तत्कालीन वित्त मंत्री और प्रणब मुखर्जी ने की थी, इसके बाद इस योजना को अमली जामा पहनाने की भी घोषणा की गई थी।

योजना की घोषणा के एक दिन बाद ही सरकार को बाहर से समर्थन दे रही समाजवादी पार्टी और जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ने भी कैश ट्रासफर स्कीम की टाइमिंग को लेकर सवाल खड़े किए थे। वहीं, काग्रेस ने बीजेपी से कैश सब्सिडी पर अपना रुख साफ करने को कहा है।

सपा महासचिव रामगोपाल यादव ने कहा है कि उन्हें कैश सब्सिडी योजना को लेकर कोई शिकायत नहीं है। लेकिन सरकार को इसका एलान गुजरात चुनाव के बाद करना चाहिए था। वहीं जनता दल यूनाइटेड ने योजना को वोटरों को रिश्वत देने की कोशिश करार दिया है। दूसरी ओर, सूचना और प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने कहा है कि भाजपा को कैश सब्सिडी पर अपना रुख साफ करना चाहिए कि वह इसके हक में है या खिलाफ।
 
 
 
टिप्पणियाँ