मंगलवार, 28 जुलाई, 2015 | 06:58 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    केजरीवाल ने आडवाणी से मुलाकात की, कई मुद्दों पर की चर्चा पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम नहीं रहे, देश भर में शोक की लहर गुरदासपुर आतंकी हमले के बाद BCCI ने कहा, पाकिस्तान के साथ कोई क्रिकेट संबंध नहीं आरएमएल में आम नहीं 'खास' मरीजों का विशेष ध्यान रखने का आदेश  उप राज्यपाल ने दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल की नियुक्ति पर मुहर लगाई बिहार बंद: लालू सहित कई राजद नेता गिरफ्तार और रिहा किए गए  याकूब की फांसी का विरोध कर फंसे अभिनेता सलमान और सांसद ओवैसी, राष्ट्रद्रोह का मामला दर्ज आईफोन 5 और लूमिया का अहसास देगा एमआई4 आई  सजा के खिलाफ सलमान की अपील पर 30 जुलाई को होगी सुनवाई भारत पर है इन 15 खौफनाक आतंकी संगठनों की नजर
आर्थिक आजादी के लिहाज से राज्यों में गुजरात अव्वल
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:08-01-2013 09:58:59 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

आर्थिक आजादी, राजकाज तथा समावेशी वृद्धि के लिहाज से देश के 20 बड़े राज्यों की सूची में गुजरात को पहले नंबर पर रखा गया है। रपट भारतीय राज्यों में आर्थिक स्वतंत्रता-2012 में यह निष्कर्ष निकाला गया है जिसे मंगलवार को भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर तथा राज्यसभा सदस्य बिमल जालान ने जारी किया।

रपट को प्रमुख अर्थशास्त्री बिवेक देबराय, लवीश भंडारी, अशोक गुलाटी तथा स्वामीनाथन अय्यर ने लिखा है। इसमें गुजरात के बाद तमिलनाडु तथा मध्यप्रदेश को रखा गया है। इकनामिक फ्रीडम इंडेक्स को कनाडा के फरासेर इंस्टीट्यूट द्वारा विकसित प्रणाली के आधार पर तैयार किया गया है। यह आर्थिक परिचालन, राज्य स्तरीय सुधार तथा समावेषी आर्थिक वृद्धि का संकेतक है।

रपट के अनुसार गुजरात, फ्रीडम इंडेक्स तेजी से बढ़ रहा है और अनुमानित 0.64 प्रतिशत है। यह तमिलनाडु तथा मध्यप्रदेश (0.56 प्रतिशत) की तुलना में बहुत आगे है। इस लिहाज से हरियाणा व हिमाचल प्रदेश को क्रमश: चौथे व पांचवें स्थान पर रखा गया है। गुजरात में भाजपा हाल ही में एक बार फिर सत्ता में आई है। रपट के अनुसार आर्थिक आजादी सूचकांक (2011) के लिहाज से पश्चिम बंगाल, झारखंड तथा बिहार सबसे निचले पायदान पर है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड