शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 11:37 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आम आदमी की उम्मीदों को पूरा करे सरकार: शिवसेना वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत केंद्र सरकार के सचिवों से आज चाय पर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा आज से शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान आयोग कर सकता है देह व्यापार को कानूनी बनाने की सिफारिश भाजपा की अपनी पहली सरकार के समारोह में दर्शक रही शिवसेना बेटी ने फडणवीस से कहा, ऑल द बेस्ट बाबा झारखंड में हेमंत सरकार से समर्थन वापसी की तैयारी में कांग्रेस अब एटीएम से महीने में पांच लेन-देन के बाद लगेगा शुल्क  पेट्रोल 2.41 रुपये, डीजल 2.25 रुपये सस्ता
आर्थिक आजादी के लिहाज से राज्यों में गुजरात अव्वल
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:08-01-13 09:58 PM
Image Loading

आर्थिक आजादी, राजकाज तथा समावेशी वृद्धि के लिहाज से देश के 20 बड़े राज्यों की सूची में गुजरात को पहले नंबर पर रखा गया है। रपट भारतीय राज्यों में आर्थिक स्वतंत्रता-2012 में यह निष्कर्ष निकाला गया है जिसे मंगलवार को भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर तथा राज्यसभा सदस्य बिमल जालान ने जारी किया।

रपट को प्रमुख अर्थशास्त्री बिवेक देबराय, लवीश भंडारी, अशोक गुलाटी तथा स्वामीनाथन अय्यर ने लिखा है। इसमें गुजरात के बाद तमिलनाडु तथा मध्यप्रदेश को रखा गया है। इकनामिक फ्रीडम इंडेक्स को कनाडा के फरासेर इंस्टीट्यूट द्वारा विकसित प्रणाली के आधार पर तैयार किया गया है। यह आर्थिक परिचालन, राज्य स्तरीय सुधार तथा समावेषी आर्थिक वृद्धि का संकेतक है।

रपट के अनुसार गुजरात, फ्रीडम इंडेक्स तेजी से बढ़ रहा है और अनुमानित 0.64 प्रतिशत है। यह तमिलनाडु तथा मध्यप्रदेश (0.56 प्रतिशत) की तुलना में बहुत आगे है। इस लिहाज से हरियाणा व हिमाचल प्रदेश को क्रमश: चौथे व पांचवें स्थान पर रखा गया है। गुजरात में भाजपा हाल ही में एक बार फिर सत्ता में आई है। रपट के अनुसार आर्थिक आजादी सूचकांक (2011) के लिहाज से पश्चिम बंगाल, झारखंड तथा बिहार सबसे निचले पायदान पर है।

 
 
 
टिप्पणियाँ