शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 20:50 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा जम्मू-कश्मीर, झारखंड चुनावों की आज हो सकती है घोषणा
प्रधानमंत्री बनने के काबिल हैं सुषमा स्वराज: दिग्विजय सिंह
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:07-12-12 09:59 AMLast Updated:07-12-12 03:01 PM
Image Loading

कांग्रेस में प्रधानमंत्री पद के बारे में सोनिया गांधी का निर्णय अंतिम बताते हुए पार्टी महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा कि इस विषय पर आदेश हो जाएगा और उसका पालन हो जाएगा। साथ ही, कांग्रेस महासचिव ने सुषमा स्वराज को भाजपा में प्रधानमंत्री पद के लिए स्वीकार्य नेता बताया।

एक न्यूज चैनल द्वारा आयोजित कार्यक्रम के दौरान दिग्विजय सिंह ने सोनिया का नाम लिए बिना कहा कि कांग्रेस पार्टी में प्रधानमंत्री पद के लिए एक अनार, सौ बीमार जैसी कोई स्थिति नहीं है। इस विषय पर आदेश आ जाएगा और उसका पालन हो जाएगा।

इस सत्र में हिस्सा ले रही भाजपा की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि संसदीय प्रणाली में नेता चुनने का हक चुनाव के बाद नये निर्वाचित सदस्यों को होता है। ब्रिटेन में ‘शैडो प्राइम मिनिस्टर’ का चलन है। सुषमाजी को शैडो प्राइम मिनिस्टर होना चाहिए था, लेकिन गुजरात में उन्होंने (सुषमा ने) किसी और व्यक्ति (नरेन्द्र मोदी) का नाम ले लिया।

दिग्विजय ने कहा कि आज की राजनीति में जहां विचारों में इतना मतभेद है, ऐसी स्थिति में उदारवादी चेहरा देखा जाता है। अटलजी भाजपा में ऐसा ही एक चेहरा थे। आज के समय में कोई ऐसा चेहरा भाजपा में है तो वह सुषमाजी का है। उन्होंने कहा कि वह अन्य दलों को भी स्वीकार्य हो सकती हैं क्योंकि उन पर संघ का तमगा नहीं लगा हुआ है और उनका रूख उदारवादी है।

बहरहाल, सुषमा ने हास्य विनोद के अंदाज में कहा कि लड़ाई करा देना दिग्विजय सिंह की पुरानी आदत है। ऐसी लडाई उन्होंने आज भी कराने का प्रयास किया जो किसी की अधिक बड़ाई के माध्यम से भी कराई जा सकती है।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ