शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 23:35 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नरेंद्र मोदी की चाय पार्टी में नहीं शामिल होंगे उद्धव ठाकरे भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें जमशेदपुर से लश्कर का आतंकवादी गिरफ्तार  कोई गैर गांधी भी बन सकता है कांग्रेस अध्यक्ष: चिदंबरम भाजपा के साथ सरकार के लिए उद्धव बहुत उत्सुक: अठावले रांची : एंथ्रेक्स ने ली सात लोगों की जान, 8 गंभीर हालत में भर्ती भारत-पाक तनाव के लिये भारत जिम्मेदार : बिलावल भुट्टो अमेरिकी विदेश विभाग में पहली बार मनी दीवाली एनआईए प्रमुख ने बर्दवान विस्फोट की जांच का जायजा लिया
हर पल सजग रहने की जरूरत: विशेषज्ञ
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:11-12-12 10:04 PM
Image Loading

देश में लोकतंत्र का प्रतीक समझे जाने वाले भारतीय संसद पर हमले के 11 साल बीत जाने के बावजूद खतरा अभी टला नहीं है और विशेषज्ञों का मानना है कि भविष्य में इस तरह के किसी भी हमले से बचने के लिए हमें हर पल सजग रहने तथा अपनी तैयारियों को और पुख्ता करने की जरूरत है।

रक्षा मामलों के विशेषज्ञ मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) दीपाकंर बनर्जी ने कहा कि संसद पर आतंकवादी हमले के बाद सरकार ने सुरक्षा व्यवस्था के चाक चौबंद प्रबंध किए हैं। इसके अंतर्गत सुरक्षाकर्मियों की संख्या बढ़ाई गई और साथ ही उन्हें अत्याधुनिक तकनीक से भी लैस किया गया। उन्होंने कहा कि भारत की पाकिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश से लगती सीमा बहुत लंबी है जबकि दूसरी तरफ सीमा के उस पार बड़ी संख्या में प्रशिक्षित आतंकवादी इस ताक में बैठे हैं कि कब मौका मिले और कब घुसपैठ करें।

उधर, रक्षा मामलों के विशेषज्ञ लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) शंकर राय चौधरी का मानना है कि भारत ने इस हमले से कई सबक सीखे लेकिन क्रियान्वित एक भी नहीं किया। उन्होंने कहा कि केवल नित नए संगठन बना देने से कुछ नहीं होगा बल्कि हमें सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए वर्तमान संगठनों को मजबूत करना होगा।
 
 
 
टिप्पणियाँ