सोमवार, 31 अगस्त, 2015 | 20:48 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
झारखंडः विधायक निर्मला देवी की जमानत याचिका खारिज।आरपी वातल को वित्त सचिव नियुक्त किया गया।एलसी गोयल को इंडियन ट्रेड प्रमोशन आर्गेनाइजेशन (आईटीपीओ) का सीएमडी बनाया गया।पेट्रोल दो रुपये और डीजल 50 पैसे सस्ता।मुरादाबाद के काशीपुर बस स्टैंड पर अवैध वसूली को लेकर यूनियन वालों में मारपीट। पुलिस ने यूनियन अध्यक्ष को लिया हिरासत में। विरोध में बस चालकों ने की हड़ताल।जीआरपी सिपाही बनकर रेलवे स्टेशन पर यात्री को लूटपाट।जनता एक्सप्रेस में शाहजहांपुर से हरिद्वार जाते समय मुरादाबाद स्टेशन पर उतर गया था यात्री। यात्री शाहजहांपुर का रहने वाला।जीआरपी ने पीड़ित के बताए हुलिए के आधार पर डाली दबिश। प्लेटफार्म पांच पर धरे गए दोनों लुटेरे।मेरठ: दो दिन से लापता युवक की लाश गाजियाबाद के निवाड़ी में मिली, परिजनों का हंगामा
हर पल सजग रहने की जरूरत: विशेषज्ञ
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:11-12-2012 10:04:14 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

देश में लोकतंत्र का प्रतीक समझे जाने वाले भारतीय संसद पर हमले के 11 साल बीत जाने के बावजूद खतरा अभी टला नहीं है और विशेषज्ञों का मानना है कि भविष्य में इस तरह के किसी भी हमले से बचने के लिए हमें हर पल सजग रहने तथा अपनी तैयारियों को और पुख्ता करने की जरूरत है।

रक्षा मामलों के विशेषज्ञ मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) दीपाकंर बनर्जी ने कहा कि संसद पर आतंकवादी हमले के बाद सरकार ने सुरक्षा व्यवस्था के चाक चौबंद प्रबंध किए हैं। इसके अंतर्गत सुरक्षाकर्मियों की संख्या बढ़ाई गई और साथ ही उन्हें अत्याधुनिक तकनीक से भी लैस किया गया। उन्होंने कहा कि भारत की पाकिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश से लगती सीमा बहुत लंबी है जबकि दूसरी तरफ सीमा के उस पार बड़ी संख्या में प्रशिक्षित आतंकवादी इस ताक में बैठे हैं कि कब मौका मिले और कब घुसपैठ करें।

उधर, रक्षा मामलों के विशेषज्ञ लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) शंकर राय चौधरी का मानना है कि भारत ने इस हमले से कई सबक सीखे लेकिन क्रियान्वित एक भी नहीं किया। उन्होंने कहा कि केवल नित नए संगठन बना देने से कुछ नहीं होगा बल्कि हमें सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए वर्तमान संगठनों को मजबूत करना होगा।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingभारत ने कसा शिकंजा, जीत से सिर्फ सात विकेट दूर
पुछल्ले बल्लेबाजों के उपयोगी योगदान से श्रीलंका के सामने बड़ा लक्ष्य रखने वाले भारत ने शुरू में ही तीन विकेट निकालकर तीसरे और अंतिम टेस्ट क्रिकेट मैच पर शिकंजा कसने के साथ श्रीलंकाई सरजमीं पर 22 साल बाद पहली टेस्ट सीरीज जीतने की तरफ मजबूत कदम बढ़ाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

कहां रखें पैसे
पत्नी: मैं जहां भी पैसा रखती हूं हमारा बेटा वहां से चुरा लेता है। मेरी समझ नहीं आ रहा कि पैसे कहां रखूं?
पति: पैसे उसकी किताबों में रख दो, वो उन्हें कभी नहीं छूता।