शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 12:12 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आम आदमी की उम्मीदों को पूरा करे सरकार: शिवसेना वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत केंद्र सरकार के सचिवों से आज चाय पर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा आज से शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान आयोग कर सकता है देह व्यापार को कानूनी बनाने की सिफारिश भाजपा की अपनी पहली सरकार के समारोह में दर्शक रही शिवसेना बेटी ने फडणवीस से कहा, ऑल द बेस्ट बाबा झारखंड में हेमंत सरकार से समर्थन वापसी की तैयारी में कांग्रेस अब एटीएम से महीने में पांच लेन-देन के बाद लगेगा शुल्क  पेट्रोल 2.41 रुपये, डीजल 2.25 रुपये सस्ता
गैंगरेप पीड़िता की हालत नाजुक, अभी भी वेंटिलेटर पर
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:18-12-12 01:31 PMLast Updated:18-12-12 05:47 PM
Image Loading

दिल्ली में चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म की घटना की शिकार बनी 23 वर्षीया पीड़िता की हालत अब भी नाजुक बनी हुई है। राजधानी के सफदरजंग अस्पताल में पीड़िता को वेंटिलेटर पर रखा गया है। अस्पताल के अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

अस्पताल के प्रेस सूचना अधिकारी एस. एन. मकवाना ने बताया कि पीड़िता की हालत नाजुक है और उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है। वह डॉक्टरों से बात कर पा रही है।

पीड़िता का इलाज कर रहे अस्पताल के एक वरिष्ठ चिकित्सक ने बताया कि उनकी फिलहाल किसी तरह की सर्जरी की योजना नहीं है।

ज्ञात हो कि रविवार की रात पीड़िता अपने मित्र के साथ एक निजी बस में चढ़ी थी, जहां सात लोगों ने उसके साथ मारपीट और सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद उसे महिपालपुर इलाके के पास चलती बस से फेंक दिया था।

बलात्कार और निर्दयी यातनाओं के बाद रविवार को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती लड़की को अब भी अस्पताल के सघन चिकित्सा कक्ष (आईसीयू) में रखा गया है।
     
अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर बीडी अठानी ने कहा कि उसकी स्थिति कल से बेहतर हुई है। उसकी चेतना का स्तर कल से काफी बेहतर हुआ है। उसकी रविवार को एक सर्जरी हुई है।
     
उन्होंने कहा कि पीड़ित लड़की पर अगले 48 से 72 घंटों तक डॉक्टरों द्वारा करीबी नजर रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि डॉक्टर नियमित रूप से उसकी स्थिति देख रहे हैं, ताकि उसका सर्वश्रेष्ठ इलाज हो सके।
     
डॉक्टर ने कहा कि लड़की का चेतना स्तर कल से काफी बेहतर हुआ है और उसका लगातार इलाज चल रहा है। उन्होंने कहा कि चोटों की प्रकृति को देखते हुए हम अब भी उसे खतरे से बाहर नहीं कह सकते।
     
डॉक्टरों ने कहा कि मेडिकल छात्रा के सिर और चेहरे पर काफी चोटें लगी हैं, क्योंकि उस पर लोहे की छड़ से निर्दयता से हमला किया गया।

 

 
 
 
टिप्पणियाँ