शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 20:57 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पश्चिम बंगाल के वीरभूम जिले में पुलिस टीम पर हमलाकांग्रेस में बदल सकता है पार्टी अध्‍यक्षचिदंबरम ने कहा, नेतृत्‍व में बदलाव की जरूरत है
चार्जशीट के ऊपरी पन्ने पर हत्या का आरोप गायब
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-01-13 11:05 PM

दिल्ली पुलिस ने शनिवार को अदालत में स्वीकार किया कि गैंगरेप के बाद हत्या मामले में आरोपियों के खिलाफ वह हत्या के गंभीर आरोप का जिक्र करना भूल गई। उसने इसे टाइपिंग की गलती होने का दावा करते हुए तवज्जो नहीं दिया।

पुलिस ने मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट नम्रिता अग्रवाल से कहा कि वह आरोपपत्र में धारा 302 का जिक्र करना भूल गई। यह टाइप में गलती का मामला है। आरोपपत्र पर गौर करने के कुछ मिनट के अंदर टाइप की यह गलती सामने आई। लोक अभियोजक राजीव मोहन ने कहा कि आरोपपत्र में हमने धारा 302 का जिक्र किया है और अंतिम हिस्से में भी इसका जिक्र है जहां हमने हत्या और अन्य धाराओं के तहत सुनवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि गलती में सुधार के लिए हम आवेदन देना चाहते हैं। यह टाइपिंग की गलती का मामला है।

बहरहाल, न्यायाधीश ने कहा कि इस तरह के किसी आवेदन की जरूरत नहीं है क्योंकि पूरे आरोपपत्र को संज्ञान में लिया जाएगा। जिन पांच आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया गया है उनमें राम सिंह, उसका भाई मुकेश और उसके सहयोगी पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय ठाकुर हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ