शनिवार, 30 मई, 2015 | 03:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट का डबल झटका, एलजी ही करेंगे नियुक्ति   क्या दाऊद को जल्द भारत ला रही सरकार बीएमडब्ल्यू ने पेश किया ग्रान कूपे का नया मॉडल  चीन में आमिर का एलियन अवतार हुआ हिट चीन में आमिर का एलियन अवतार हुआ हिट सायना की हार के साथ भारतीय चुनौती समाप्त 26 लड़कियों से रेप के आरोपी टीचर को मौत की सजा दिल्ली एयरपोर्ट पर रेडियोएक्टिव पदार्थ लीक से मचा हड़कंप, काबू में लीकेज स्पेलिंग बी प्रतियोगिता में फिर से भारतीयों का बोलबाला सरकारी नौकरीः 400 से ज्यादा दसवीं पास से लेकर इंजीनियर तक वैकेंसी
सिंघवी सीडी प्रकरण की जांच के लिए दायर PIL खारिज
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:25-04-12 03:44 PMLast Updated:25-04-12 04:00 PM
Image Loading

दिल्ली उच्च न्यायालय ने वरिष्ठ वकील और कांग्रेसी नेता अभिषेक मनु सिंघवी से जुड़ी सीडी मामले में बार कौंसिल ऑफ इंडिया द्वारा जांच की याचिका बुधवार को खारिज कर दी।
    
कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति ए के सिकरी की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि याचिका खारिज की जाती है। याचिकाकर्ता बीसीडी और दिल्ली उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन को निर्देश दिए जाने की मांग कर रहे हैं ताकि संबंधित वकील के कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई की जा सके।
    
पीठ ने कहा कि वकीलों का निकाय किसी वकील के कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर सकता। पीठ में न्यायमूर्ति राजीव सहाय एंडला भी शामिल हैं। अदालत का यह फैसला सामाजिक कार्यकर्ता संजय कुमार की याचिका पर आया है जिसमें उन्होंने सीडी मामले में जांच कराए जाने की मांग की है। यह सीडी मामला कथित तौर पर सिंघवी तथा दिल्ली उच्च न्यायालय की एक महिला वकील से जुड़ा हुआ है।
     
याचिकाकर्ता के वकील सुग्रीव दुबे ने कहा, हर कोई पूछ रहा है कि उच्च न्यायालय में क्या हो रहा है। वकील समुदाय की छवि बचाने के लिए जांच का आदेश दिया जाना चाहिए। पीठ ने कहा कि यह एक तथ्यात्मक बात है कि इसी अदालत ने मामले में पहले ही एक आदेश दिया है और इस मुद्दे पर जनहित याचिका को स्वीकार नहीं किया जा सकता।
     
पीठ ने कहा कि वकीलों का निकाय संबंधित कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर सकता। याचिका में दलील दी गई थी कि वकील के हर कर्मचारी को संबंधित व्यक्ति के निजता के अधिकार का सम्मान करना चाहिए और इस मामले में सिंघवी के ड्राइवर का कर्तव्य था कि वह निजता के अधिकार का सम्मान करता।
     
पीठ ने याचिका स्वीकार करने से इंकार करते हुए कहा कि ऐसे मामले जनहित याचिका का विषय नहीं बन सकते। इसके पहले 19 अप्रैल को सिंघवी और उनके पुराने ड्राइवर ने अदालत को सूचित किया था कि उन्होंने आपस में मामला सुलझा लिया है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingअंतिम 11 में जगह मिलने की नहीं थी उम्मीद : सरफराज
इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अपने प्रदर्शन से प्रभावित करने वाले रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के सबसे युवा बल्लेबाज सरफराज खान का कहना है कि उन्हें क्रिस गेल, ए.बी. डीविलियर्स और विराट कोहली जैसे विध्वंसक बल्लेबाजों के बीच अंतिम 11 में जगह मिलने का यकीन नहीं था और नम्बर छह की बेहद महत्वपूर्ण स्थान पर मौका दिये जाने से उनका आत्मविश्वास सातवें आसमान पर है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड