शनिवार, 29 अगस्त, 2015 | 05:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
देश को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाया जाएगा: प्रधानमंत्री
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-12-2012 09:48:20 AMLast Updated:29-12-2012 12:11:15 PM
Image Loading

सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता की मौत पर गहरा दुख जताते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शनिवार को कहा कि यह हम सब के ऊपर है कि हम उसकी मौत को व्यर्थ न जाने दें और देश को महिलाओं के लिए प्रामाणिक रूप से बेहतर और सुरक्षित स्थान बनाएं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह दुख की इस घड़ी में देश के साथ हैं। उन्होंने पीड़िता के परिवार व मित्रों के प्रति अपनी गहरी संवेदनाएं भी जताईं। उन्होंने कहा कि मैं उनसे व देश से कहना चाहता हूं कि वह लड़की जिंदगी की जंग भले ही हार गई हो, लेकिन अब यह हमारे ऊपर है कि हम यह सुनिश्चित करें कि उसकी मौत व्यर्थ न जाए।

प्रधानमंत्री ने अपने संदेश में कहा कि हम इस घटना से उपजी भावनाओं व ऊर्जा को पहले ही देख चुके हैं। युवा भारत और सही मायने में बदलाव की इच्छा रखने वाले देश की ओर से इस तरह की प्रतिक्रियाएं आना समझा जा सकता है।

उन्होंने कहा कि यदि हम इन भावनाओं और ऊर्जा का सकारात्मक कार्रवाई में इस्तेमाल कर सकें तो यह उस पीडिम्ता को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

सिंह ने अपने वक्तव्य में कहा कि इस समय सामाजिक व्यवहार में आवश्यक महत्वपूर्ण बदलावों पर निष्पक्ष बहस व जांच की जरूरत है। सरकार इस तरह के अपराधों के लिए बने मौजूदा दंडात्मक प्रावधानों और महिलाओं की सुरक्षा बढ़ाने के उपायों का प्राथमिकता के आधार पर जांच कर रही है।

प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि पूरा राजनीतिक वर्ग व नागरिक समाज अपने संकीर्ण हितों को किनारे रखकर देश को महिलाओं के लिए प्रामाणिक रूप से एक बेहतर व सुरक्षित स्थान बनाने में मदद करेंगे।

उन्होंने कहा कि मैं पीड़िता की आत्मा के लिए शांति की प्रार्थना करता हूं और उम्मीद करता हूं कि उसके परिवार को इस दुख से उबरने की ताकत मिले।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।