शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 10:12 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत केंद्र सरकार के सचिवों से आज चाय पर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा आज से शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान आयोग कर सकता है देह व्यापार को कानूनी बनाने की सिफारिश भाजपा की अपनी पहली सरकार के समारोह में दर्शक रही शिवसेना बेटी ने फडणवीस से कहा, ऑल द बेस्ट बाबा झारखंड में हेमंत सरकार से समर्थन वापसी की तैयारी में कांग्रेस अब एटीएम से महीने में पांच लेन-देन के बाद लगेगा शुल्क  पेट्रोल 2.41 रुपये, डीजल 2.25 रुपये सस्ता फड़णवीस को मोदी ने चढ़ाईं सत्ता की सीढ़ियां
शर्म भी आती है और दुख भी होता है: शीला दीक्षित
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-12-12 11:16 AMLast Updated:29-12-12 02:48 PM
Image Loading

दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने 23 साल की लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार को बतौर प्रशासक अपने लिए शर्मनाक घटना करार देते हुए पीड़िता की मौत पर गहरे दुख का इजहार किया है।
   
शीला ने लोगों से इसके साथ ही अपील की है कि वे शांति बनाए रखें। उन्होंने कहा कि इस तरह की वीभत्स घटना दोबारा नहीं हो, यह सुनिश्चित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारी संवेदना परिवार के साथ है। मुझे बहुत पीड़ा हो रही है। लड़की का निधन बहुत दुखद घटना है। इसने हमारी अंतरात्मा को हिला दिया है।
   
बीते 16 दिसंबर को चलती बस में छह लोगों ने 23 साल की लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार करने के साथ ही उसके साथ हैवानियत का व्यवहार किया था। करीब एक पखवाड़े तक जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ने के बाद आज इस पीड़िता ने तड़के सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में दम तोड़ दिया।
     
शीला ने कहा कि मुख्यमंत्री और दिल्ली का निवासी होने के तौर पर मेरे लिए यह एक शर्मनाक घटना है। हम सभी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि भविष्य में इस तरह की घटना दोबारा नहीं हो। मैं उसके लिए प्रार्थना करती हूं।
     
उन्होंने कहा कि इस बहादुर लड़की का गुजरना एक दुखद खबर है। दिल्ली की मुख्यमंत्री ने कहा कि उसने बड़ी बहादुरी से लड़ा और इस प्रक्रिया ने देश की अंतरात्मा को झकझोर दिया है। यह वक्त भाषण या बयान देने का नहीं है, बल्कि गहरी संवेदना का है।
     
उन्होंने कहा कि उसकी आत्मा को शांति मिले और भगवान परिवार एवं सभी लोगों को इस दुखद क्षति को सहन करने की शक्ति प्रदान करे। मैं आशा करती हूं कि सभी लोग इससे सबके लेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि ऐसी वीभत्स घटनाएं दोबारा नहीं हों।

 
 
 
टिप्पणियाँ