बुधवार, 04 मार्च, 2015 | 12:30 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
सोलह दिसंबर के सामूहिक बलात्कार मामले के दोषी को तिहाड़ जेल के भीतर बेहद विवादास्पद साक्षात्कार की अनुमति देने के विरोध में सपा के तीन सदस्यों ने राज्यसभा में वाकआउट किया।
पीड़िता के पुश्तैनी गांव में मातम का माहौल
बलिया, एजेंसी First Published:29-12-12 02:04 PM
Image Loading

पूरे देश को झकझोर देने वाले दिल्ली सामूहिक बलात्कार कांड की पीड़ित लड़की की सिंगापुर में इलाज के दौरान मृत्यु की खबर से उत्तर प्रदेश के बलिया स्थित उसके पुश्तैनी गांव मेड़वरा कलां में शोक की लहर है और गमगीन लोगों के घरों में आज चूल्हे नहीं जले।

उत्तर प्रदेश और बिहार की सीमा से सटे मेड़वरा कलां गांव में बलात्कार पीड़ित लड़की की मृत्यु की खबर के बाद मातम का माहौल है और घरों के चूल्हे ठंडे पडे हैं।

ग्राम प्रधान शिव मंदिर सिंह ने बताया कि गांव में आज शोकसभा करके गांव की बेटी की दिवंगत आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना की गयी। ग्रामीणों में दिल्ली बलात्कार कांड को लेकर खासी नाराजगी है और वे इसके गुनहगारों के लिये सख्त से सख्त सजा चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि ग्रामवासियों की मांग है कि उनकी बेटी की अस्मत को तार-तार कर आखिरकार उसकी मौत का कारण बने लोगों को ऐसी कड़ी सजा हो, जो कुत्सित मानसिकता रखने वाले लोगों के दिलों को खौफ से भर दे और वे ऐसी वारदात अंजाम देने की सोच भी न सकें।

हैवानियत की शिकार हुई लड़की के रिश्तेदार लालजी सिंह ने कहा कि उनके खानदान की बेटी के गुनहगारों को जब तक फांसी नहीं होती तब तक उनका परिवार न्याय के लिये संघर्ष करता रहेगा।

गौरतलब है कि गत 16 दिसम्बर को चलती बस में सामूहिक बलात्कार की शिकार हुई 23 वर्षीय लड़की की आज तड़के भारतीय समयानुसार दो बज कर 15 मिनट पर सिंगापुर के माउंट एलिजबेथ अस्पताल में मृत्यु हो गयी।

सामूहिक बलात्कार की इस दुस्साहसिक वारदात के विरोध में पूरा देश मानो उबल पड़ा और ऐसी घटनाओं के दोषी लोगों को मौत की सजा दिये जाने की चौतरफा मांग की जा रही हैं।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड