शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 19:45 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
मस्तिष्क में सूजन के कारण हुई लड़की की मौत
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-12-2012 12:03:36 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

दिल्ली में सामूहिक बलात्कार की पीड़िता के मस्तिष्क में पिछले दिनों दिल का दौरा पड़ने की वजह से सूजन हो गई थी और इस जाबांज लड़की की मौत का बड़ा कारण यही बना।
    
मस्तिष्क में सूजन की वजह अंदर या बाहर के हिस्से में पानी का एकत्र होना है। बलात्कार पीड़िता के मामले में यही बात घातक साबित हुई।
    
बीते मंगलवार की रात लड़की का दिल का दौरा पड़ा था जिसके कारण उसके दिमाग में कई स्थान चोटिल भी हुए। मस्तिष्क में परेशानियों और कई अंगों के काम करना बंद करने के कारण पीड़िता ने दम तोड़ा।
    
मेदांता मेडीसिटी स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ क्रिटीकल केयर एंड अनेस्थियोसिलॉजी के अध्यक्ष डॉक्टर यतीन मेहता ने कहा कि मौत की एक प्रमुख वजह मस्तिष्क में चोट का होना है। मंगलवार को सफदरजंग अस्पताल में दिल का दौरा पड़ा था। इससे दिमाग में चोट आई और कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया।
    
उन्होंने कहा कि इस तरह के मामले में आखिकार मौत दिल का दौरा पड़ने से ही होती है।
    
बीते 16 दिसंबर को चलती बस में छह लोगों ने 23 साल की लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार करने के साथ ही उसके साथ हैवानियत का व्यवहार किया था। करीब एक पखवाड़े तक जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ने के बाद आज इस पीड़िता ने तड़के सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में दम तोड़ दिया।
    
डॉक्टर मेहता भी सिंगापुर लड़की के साथ एयर एंबुलेंस में गए थे। उन्होंने कहा कि सिंगापुर ले जाने से पहले शाम तक लड़की का रक्तचाप सामान्य था और उसकी धड़कन भी चल रही थी। उन्होंने कहा कि कल लड़की के फेफड़े में थोड़ा संक्रमण हो गया था, लेकिन उसका रक्तचाप सामान्य था। वह बहुत बहादुर लड़की थी। गंभीर चोटों से जूझ रहे लोगों के लिए वह आदर्श है।
    
डॉक्टर मेहता ने कहा कि सिंगापुर ले जाते समय छह घंटे के सफर के दौरान कुछ मिनटों के लिए लड़की का रक्तचाप काफी नीचे चला गया था, लेकिन तत्काल इसे सामान्य कर लिया गया था। उन्होंने कहा कि लड़की को सिंगापुर बेहतरीन उपचार के लिए ले जाया गया था। डॉक्टर मेहता लड़की के हौंसले के मुरीद हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।