शनिवार, 20 दिसम्बर, 2014 | 04:58 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद आंसुओं में डूबा देश...
नई दिल्ली/सिंगापुर, एजेंसी/लाइव हिन्दुस्तान First Published:29-12-12 08:55 AMLast Updated:30-12-12 10:19 AM

भारत की राजधानी दिल्ली में चलती बस में सामूहिक बलात्कार की पीड़ित 23 वर्षीय पैरा मेडिकल छात्रा ने जीवन के लिए 13 दिन तक संघर्ष करने के बाद शनिवार तड़के दम तोड़ दिया जिसके बाद पूरे भारत में शोक की लहर है क्योंकि उसे देश की बेटी कहा जा रहा है।
 
लड़की को गत गुरुवार की सुबह में अत्यंत नाजुक स्थिति में जानेमाने मल्टी-आर्गन ट्रांसप्लांट फैसिलिटी युक्त माउंट एलिजाबेथ हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। उसने स्थानीय समयानुसार तड़के पौने पांच बजे (भारतीय समयानुसार देर रात सवा दो बजे) अंतिम सांस ली। लड़की का इससे पहले दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा था।

लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार और उस पर वीभत्स हमला करने वाले छह संदिग्धों के खिलाफ अब हत्या के आरोप में मामला चलाया जाएगा। इसमें दुर्लभतम से दुर्लभ मामलों में मौत की सजा हो सकती है। पीड़िता के पार्थिव शरीर को लेकर एयर इंडिया का विशेष चार्टर्ड विमान शनिवार को रात्रि में (भारतीय समयानुसार रात साढ़े नौ बजे) लेकर भारत रवाना होगा। विमान में लड़की के परिवार के सदस्य भी साथ जाएंगे।

लड़की के पार्थिव शरीर को सीधे उत्तर प्रदेश स्थित उसके पैतृक जिला बलिया ले जाया जाएगा क्योंकि परिवार ने कल सुबह निजी तौर पर उसका अंतिम संस्कार करने की इच्छा जताई है। सिंगापुर अस्पताल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा केल्विन लोह ने एक बयान में कहा कि हमें यह बताते हुए अत्यंत दुख हो रहा है कि मरीज ने 29 दिसम्बर 2012 को तड़के पौने पांच बजे (सिंगापुर समयानुसार) अंतिम सांस ली। बयान में कहा गया है, उस समय उसके परिवार और भारतीय उच्चायोग के अधिकारी उसके पास थे। माउंट एलिजाबेथ अस्पताल के चिकित्सकों, नसरें और कर्मचारियों का दल इस दुख की घड़ी में उसके परिवार के साथ है।

नाराज देशवासियों ने सामूहिक बलात्कार पीड़ित लड़की के साथ सहानुभूति प्रदर्शित करते हुए शांति मार्च और मोमबत्ती जुलूस निकाला जबकि राजधानी दिल्ली के मुख्य केंद्र इंडिया गेट और रायसीना हिल को प्रदर्शनकारियों के लिए बंद कर दिया गया था। बलात्कारियों को मौत की सजा दिए जाने और बर्बर यौन हमलों से निपटने के लिए कड़े कानून बनाए जाने पूरे देश में प्रदर्शनों में शामिल महिलाएं और पुरुषों की आम मांगें थी जिन्होंने अपने को पीड़िता और उसके परिवार के साथ जोड़ा।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और कई नेताओं ने लड़की की मौत पर दुख जताया और पीड़िता ने हमलावर वहशी तत्वों से मुकाबला करने में जिस वीरता का परिचय दिया उसकी प्रशंसा की।

गत सप्ताह प्रदर्शनकारियों से सम्पर्क नहीं करने के लिए हमलों का सामना करने वाली दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित जंतर मंतर पर शोक जताने के लिए एकत्रित लोगों से एकजुटता प्रदर्शन करने पहुंचीं लेकिन प्रदर्शनकारियों की नाराजगी के चलते उन्हें वापस लौटना पड़ा। भारतीय उच्चायुक्त टीसीए राघवन ने संवाददाताओं को बताया कि लड़की के परिवार को स्वदेश में अंतिम संस्कार को लेकर अभी निर्णय करना है। उन्होंने कहा कि परिवार ने कहा है कि दुख की इस घड़ी में उनकी निजता का सम्मान किया जाए।

राघवन ने बताया कि लड़की ने अंत तक अपने जीवन के लिए साहसिक संघर्ष किया। उन्होंने कहा कि अंतिम कुछ घंटे लड़की के परिवार के लिए बेहद कठिन थे और उन्होंने इसका सामना पूरे धैर्य और साहस के साथ किया।

राष्ट्रपति मुखर्जी ने लड़की को भारत की बहादुर बेटी करार देते हुए कहा कि इस जघन्य अपराध को अंजाम देने वालों के खिलाफ कार्रवाई के लिए सभी कदम उठाये जाएंगे। राष्ट्रपति ने अपने शोक संदेश में कहा कि वह एक बहादुर लडकी थी जो अंतिम समय में भी अपने जीवन और सम्मान के लिए लड़ी। वह सच्ची नायिका है और भारतीय युवाओं एवं महिलाओं की उत्कृष्टता का प्रतीक है।
 
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि पीड़ित की याद में सच्ची श्रद्धांजलि यही होगी कि उसके साथ हुए भयावह हादसे को लेकर युवाओं में उपजी भावनाएं और ऊर्जा रचनात्मक दिशा का रुख करें। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी लड़की की मौत पर दुख जताया है। उन्होंने दोषियों को जल्द और उपयुक्त सजा के साथ ही महिलाओं की सुरक्षा के लिए कड़ा कानून बनाये जाने का वादा करते हुए कहा कि देश की प्यारी बेटी की लड़ाई बेकार नहीं जाएगी।

राजधानी दिल्ली में पुलिस ने कथित रूप से सामूहिक बलात्कार में शामिल छह व्यक्तियों के खिलाफ हत्या का आरोप लगाया और कहा कि उनका प्रयास होगा कि दोषियों को इस अपराध के लिए कठोरतम सजा मिले।

इस बीच समाचार पत्र स्ट्रेट टाइम्स ने बताया कि है कि सामूहिक बलात्कार पीड़ित के पार्थिव शरीर को ले जाने वाला वाहन गेलांग बहरू परिसर से स्थानीय समयानुसार रात आठ बजकर 50 मिनट पर रवाना हुआ। उसके पार्थिव शरीर का लेपन सिंगापुर स्थित फ्युनरल पार्लर में किया गया।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड