शनिवार, 31 जनवरी, 2015 | 15:32 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मुरादाबाद के रेलवे माल गोदाम में मालगाड़ी के दो वैगन पटरी से उतरे। एडीआरएम ने दिए जांच के आदेश। वैगन सीमेंट की बोरियां से लदी थे।अमरोहा: जोया से संभल जा रही बस डब्ल्यूटीएम कालेज के पास पलटी। घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाना शुरु। अब तक तीस घायल अस्पताल पहुंचे। ट्रक को ओवरटेक करते समय हुआ हादसा।ऑटोवालों की समस्या दूर करेंगे, नए स्टैंड बनाएंगे, हर साल किराए की समीक्षा करेंगे : केजरीवालव्यापारियों को मान-सम्मान मिलेगा, व्यापार करने की आजादी मिलेगी : केजरीवाल900 हेल्थ सेंटर खोलेंगे : केजरीवालदिल्ली को कारोबार का हब बनाएंगे : केजरीवालदिल्ली में वैट का रेट सबसे कम करेंगे, जिससे महंगाई कम होगी और टैक्स चोरी भी नहीं होगी : केजरीवालदिल्ली के गांवों को बसों और मेट्रो से जोड़ेंगे: केजरीवालसरकारी अस्पतालों का प्रशासन सुधारेंगे, डॉक्टरों को सम्मान और सुरक्षा देंगे: केजरीवालपांच साल में यमुना को खूबसूरत बनाएंगे, उद्योगों का कचरा डालना बंद करवाएंगे: केजरीवालपानी के लिए दूसरे राज्यों के आगे हाथ फैलाना बंद करेंगे: केजरीवाल5 साल में हर घर में पानी की पाइप लाइन पहुचाएंगे : केजरीवाल24 घंटे बिजली देंगे, आधे दाम पर देंगे : केजरीवालधीरे-धीरे दिल्ली को सोलर एनर्जी की ओर लेकर जाएंगे : केजरीवाल
दलित महिलाओं के साथ ज्यादा यौन हिंसा: शरद यादव
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:07-01-13 03:54 PM
Image Loading

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के संयोजक एवं जद(यू) के अध्यक्ष शरद यादव ने आज कहा कि महिलाओं के साथ बढ़ती यौन हिंसा के कई कारण हैं, पर दलित एवं कमजोर वर्ग की महिलाओं के साथ समाज में इस तरह की घटनाएं अधिक हो रही हैं, पर देश में बलात्कार को लेकर चल रही बहस में जाति के प्रश्न पर गहरी चुप्पी छाई हुई है।

यादव ने बलात्कार के मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के बयान को सतही बताया, पर उन्होंने यह भी कहा कि देश में इस मुद्दे पर कई तरह के बयान आ रहे हैं और वह इन बयानों में पडना नहीं चाहते।

उन्होंने इस बात का भी खंडन किया कि उन्होंने शारीरिक भूख मिटाने की बात बलात्कार के संदर्भ में कही थी। उन्होंने आरोप लगाया कि मीडिया ने संदर्भ से काटकर उनकी बात पेश की है।
 
राजग संयोजक ने अपने निवास पर पत्रकारों से कहा कि 16 दिसंबर को राजधानी में पैरामेडिकल छात्रा के साथ जो कुछ हुआ. वह अत्यंत बर्वर तथा अमानवीय घटना है जिसका वर्णन शब्दों में नहीं किया जा सकता है।

पर उस दिन के बद देश भर में जो बहस चल रही है, उसको लेकर मीडिया में कोई यह सवाल नहीं उठा रहा है कि समाज में सदियों से जाति व्यवस्था के कारण स्त्रियों को दबाया जाता रहा है और इसलिए वे इस तरह की हिंसा की शिकार हो रही हैं।
 
उन्होंने कहा कि बच्चियों, लड़कियों और महिलाओं के साथ भेदभाव देश के विभिन्न हिस्सों में जारी है पर हमारे देश की व्यवस्था चाहे वह पुलिस हो, नौकरशाही हो, न्यायपालिका हो और कार्यपालिका या मीडिया हो, सब जगह जाति-व्यवस्था काम कर रही है।

जब तक अर्न्तजातीय विवाह नहीं होंगें, तब तक इस तरह की हिंसा कम नहीं होगी। उन्होंने कहा कि जो दलित और कमजोर वर्ग की महिलाएं हैं, उनके साथ ज्यादा ज्यादती हो रही है।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड