बुधवार, 29 जुलाई, 2015 | 21:42 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    केजरीवाल सरकार ने बीआरटी कॉरिडोर को समाप्त करने की घोषणा की रामेश्वरम पहुंचा कलाम का पार्थिव शरीर, अंतिम दर्शन के लिए हजारों लोग जुटे याकूब को कल दी जाएगी फांसी, कसाब को फांसी देने वाला बाबू जल्लाद याकूब को सूली पर चढ़ाएगा! बिहार में राजद के चुनाव प्रचार के लिए ‘तहलका’ और ‘हसीना नंबर वन’ तैयार! महाराष्ट्र के राज्यपाल ने मेमन की दया याचिका खारिज की पहली तिमाही में आयकर विभाग ने निपटाए 65 फीसदी आवेदन मारा गया तालिबान प्रमुख और कुख्यात आतंकी मुल्ला उमर मेमन के वकील ने बचाव में कहीं ये बातें  सितंबर में सैन फ्रांसिस्को का दौरा कर सकते हैं पीएम मोदी कश्मीर के अनंतनाग में ग्रेनेड हमला, तीन जवान समेत 5 लोग घायल
दलित महिलाओं के साथ ज्यादा यौन हिंसा: शरद यादव
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:07-01-2013 03:54:54 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के संयोजक एवं जद(यू) के अध्यक्ष शरद यादव ने आज कहा कि महिलाओं के साथ बढ़ती यौन हिंसा के कई कारण हैं, पर दलित एवं कमजोर वर्ग की महिलाओं के साथ समाज में इस तरह की घटनाएं अधिक हो रही हैं, पर देश में बलात्कार को लेकर चल रही बहस में जाति के प्रश्न पर गहरी चुप्पी छाई हुई है।

यादव ने बलात्कार के मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के बयान को सतही बताया, पर उन्होंने यह भी कहा कि देश में इस मुद्दे पर कई तरह के बयान आ रहे हैं और वह इन बयानों में पडना नहीं चाहते।

उन्होंने इस बात का भी खंडन किया कि उन्होंने शारीरिक भूख मिटाने की बात बलात्कार के संदर्भ में कही थी। उन्होंने आरोप लगाया कि मीडिया ने संदर्भ से काटकर उनकी बात पेश की है।
 
राजग संयोजक ने अपने निवास पर पत्रकारों से कहा कि 16 दिसंबर को राजधानी में पैरामेडिकल छात्रा के साथ जो कुछ हुआ. वह अत्यंत बर्वर तथा अमानवीय घटना है जिसका वर्णन शब्दों में नहीं किया जा सकता है।

पर उस दिन के बद देश भर में जो बहस चल रही है, उसको लेकर मीडिया में कोई यह सवाल नहीं उठा रहा है कि समाज में सदियों से जाति व्यवस्था के कारण स्त्रियों को दबाया जाता रहा है और इसलिए वे इस तरह की हिंसा की शिकार हो रही हैं।
 
उन्होंने कहा कि बच्चियों, लड़कियों और महिलाओं के साथ भेदभाव देश के विभिन्न हिस्सों में जारी है पर हमारे देश की व्यवस्था चाहे वह पुलिस हो, नौकरशाही हो, न्यायपालिका हो और कार्यपालिका या मीडिया हो, सब जगह जाति-व्यवस्था काम कर रही है।

जब तक अर्न्तजातीय विवाह नहीं होंगें, तब तक इस तरह की हिंसा कम नहीं होगी। उन्होंने कहा कि जो दलित और कमजोर वर्ग की महिलाएं हैं, उनके साथ ज्यादा ज्यादती हो रही है।

 
 
 
अन्य खबरें
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपाकिस्तान को क्लीन स्वीप से रोकने उतरेगा श्रीलंका
श्रीलंका कल से यहां शुरू हो रही दो मैचों की टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट सीरीज में जीत दर्ज करके पाकिस्तान को क्लीन स्वीप करने से रोकने के इरादे से उतरेगा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड