शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 02:55 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शीना बोरा के इस्तीफे पर फर्जी साइनः राकेश मारिया।
पढ़िए, प्रधानमंत्री का देश के नाम संदेश...
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:24-12-2012 02:23:47 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

दिल्ली में सामूहिक बलात्कार की घटना के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का आज राष्ट्र के नाम दिये गये संदेश का मूल पाठ इस प्रकार है-

मेरे प्यारे देशवासियों,

दिल्ली में सामूहिक बलात्कार के घिनौने अपराध पर लोगों में वास्तविक और जायज गुस्सा और पीड़ा है। तीन लड़कियों का पिता होने के नाते मैं भी आप सभी की तरह इस मामले को संजीदगी से महसूस करता हूं।

मैं, मेरी पत्नी और मेरा परिवार मिलकर इस क्रूर अपराध की शिकार लड़की के प्रति चिंतित है। सरकार उसके स्वास्थ्य पर लगातार नजर रखे हुए है। संकट की इस घड़ी में हम सभी को उसके और उसके प्रियजनों के लिए दुआ करनी चाहिए।
    
मुझे इस घटनाक्रम पर भारी दुख है, जिसकी वजह से प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़पें हुईं। इस अपराध पर गुस्सा समझा जा सकता है, लेकिन हिंसा इसका हल नहीं है। मैं सभी नागरिकों से शांति और अमन बनाये रखने की अपील करता हूं।
    
मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि देश में महिलाओं की सुरक्षा के लिए हर संभव कदम उठाये जायेंगे। गृह मंत्री ने की जा रही कार्रवाइयों और उपायों की जानकारी दी है। हम बिना देरी के बलात्कार के इस अपराध की जांच करेंगे और साथ ही महिलाओं और बच्चों पर हिंसा करने वालों के खिलाफ कानूनों की व्यापक समीक्षा करेंगे। हमारी सरकार इन सभी के बारे में आपको लगातार जानकारी देती रहेगी।
   
मैं समाज के सभी वर्गों से अपील करता हूं कि वे शांति बनाये रखें और हमारे प्रयासों में सहयोग करें।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।