शनिवार, 31 जनवरी, 2015 | 14:03 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
अमरोहा: जोया से संभल जा रही बस डब्ल्यूटीएम कालेज के पास पलटी। घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाना शुरु। अब तक तीस घायल अस्पताल पहुंचे। ट्रक को ओवरटेक करते समय हुआ हादसा।ऑटोवालों की समस्या दूर करेंगे, नए स्टैंड बनाएंगे, हर साल किराए की समीक्षा करेंगे : केजरीवालव्यापारियों को मान-सम्मान मिलेगा, व्यापार करने की आजादी मिलेगी : केजरीवाल900 हेल्थ सेंटर खोलेंगे : केजरीवालदिल्ली को कारोबार का हब बनाएंगे : केजरीवालदिल्ली में वैट का रेट सबसे कम करेंगे, जिससे महंगाई कम होगी और टैक्स चोरी भी नहीं होगी : केजरीवालदिल्ली के गांवों को बसों और मेट्रो से जोड़ेंगे: केजरीवालसरकारी अस्पतालों का प्रशासन सुधारेंगे, डॉक्टरों को सम्मान और सुरक्षा देंगे: केजरीवालपांच साल में यमुना को खूबसूरत बनाएंगे, उद्योगों का कचरा डालना बंद करवाएंगे: केजरीवालपानी के लिए दूसरे राज्यों के आगे हाथ फैलाना बंद करेंगे: केजरीवाल5 साल में हर घर में पानी की पाइप लाइन पहुचाएंगे : केजरीवाल24 घंटे बिजली देंगे, आधे दाम पर देंगे : केजरीवालधीरे-धीरे दिल्ली को सोलर एनर्जी की ओर लेकर जाएंगे : केजरीवाल
दिल्ली गैंगरेप केस में मीडिया कवरेज पर रोक बरकरार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:09-01-13 03:47 PM
Image Loading

राष्ट्रीय राजधानी में 16 दिसंबर को 23 साल की लड़की से सामूहिक बलात्कार के मामले में बंद कमरे में सुनवाई करने और मीडिया को इसकी रिपोर्टिंग से दूर रखने के अदालत के फैसले को दिल्ली की एक अदालत ने आज बरकरार रखा।
   
जिला एवं सत्र न्यायाधीश आर के गाबा ने कहा कि मजिस्ट्रेट के सात जनवरी के आदेश में कुछ भी अवैध या अनुचित नहीं था। न्यायाधीश ने कहा कि मेट्रोपालिटन मजिस्ट्रेट न केवल अपने अधिकारों की सीमा में थी, बल्कि बलात्कार और इससे जुड़े मामलों की कार्यवाही के लिये कार्यवाही में अपराधिक दंड संहिता की धारा 327 (2) के प्रावधानों को लागू करने के लिए बाध्य थीं।
   
न्यायाधीश ने कहा कि हकीकत तो यह है कि उनके अदालत कक्ष में बड़ी संख्या में भीड़ थी, जिसके कारण विचाराधीन कैदियों को भी लाने की जगह नहीं बची थी, जिस वजह से अदालत को यह आदेश देना पड़ा।

सत्र अदालत ने कहा कि सीआरपीसी की धारा 327 (2) के तहत पीठासीन अधिकारी के लिए बलात्कार और संबंधित अपराधों के मामलों में बंद कमरे में सुनवाई करना अनिवार्य होता है।
   
बहस के दौरान, लोक अभियोजक राजीव मोहन ने याचिका का विरोध किया और कहा कि चूंकि इसमें मांगी गईं राहत अपराध प्रक्रिया संहिता के प्रावधानों के खिलाफ हैं, इसलिए इसे खारिज किया जाना चाहिए।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड