शुक्रवार, 31 अक्टूबर, 2014 | 23:21 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
विद्या प्रकाश ठाकुर ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ लीदिलीप कांबले ने ली राज्यमंत्री पद की शपथविष्णु सावरा ने ली मंत्री पद की शपथपंकजा गोपीनाथ मुंडे ने ली मंत्री पद की शपथचंद्रकांत पाटिल ने ली मंत्री पद की शपथप्रकाश मंसूभाई मेहता ने ली मंत्री पद की शपथविनोद तावड़े ने मंत्री पद की शपथ लीसुधीर मुनघंटीवार ने मंत्री पद की शपथ लीएकनाथ खड़से ने मंत्री पद की शपथ लीदेवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
सामूहिक बलात्कार मामले पर सोनिया-मनमोहन सख्त, होगी कड़ी कार्रवाई
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:28-12-12 01:25 PMLast Updated:28-12-12 02:01 PM

कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी ने आज जोर देकर कहा कि बर्बर सामूहिक बलात्कार मामले के अपराधियों को न्याय के कटघरे में लाने में समय व्यर्थ नहीं किया जाएगा, जबकि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।
     
एआईसीसी मुख्यालय में कांग्रेस के 127वें स्थापना दिवस के इतर मीडिया से बात करते हुए सोनिया और सिंह ने कहा कि वे भी 16 दिसंबर की बर्बर घटना को लेकर देश में पैदा गुस्से और रोष में उनके साथ हैं।
     
आमतौर पर इस मौके पर नववर्ष की शुभकामनाएं देने वाली सोनिया ने इस बार ऐसा नहीं किया और कहा कि हमारा ध्यान उस युवा महिला के साथ हैं जो बर्बर हमले के बाद अपनी जिंदगी के लिए संघर्ष कर रही है।
     
सोनिया ने 24 अकबर रोड पर पार्टी के झंडे को फहराने के बाद भावुक आवाज में कहा कि आज हमारी एकमात्र इच्छा यह है कि वह (पीड़ित) उबरे और हमारे पास वापस आए और इस तरह के बर्बर कृत्य को करने वाले अपराधियों को न्याय के कटघरे में लाने के लिए समय व्यर्थ नहीं किया जाए।
     
सोनिया के साथ खड़े प्रधानमंत्री ने आश्वासन दिया कि हमारी सरकार दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है।

बलात्कार के आरोपियों की शीघ्र सुनवाई को लेकर सरकार की पहल के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने भारत के पूर्व प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जेएस वर्मा के नेतृत्व में एक समिति बनाई है, जो महिलाओं के खिलाफ अपराध से संबंधित कानूनों को आधुनिक बनाने के लिए तरीके सुझाएगी।
     
सिंह ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष का कहना है कि हम जघन्य अपराध पर देश के गुस्से और रोष में उनके साथ हैं। हमारी प्रार्थनाएं बहादुर युवती के साथ है और उसका सर्वश्रेष्ठ संभव इलाज किया जा रहा है।
     
उन्होंने कहा कि दिल्ली उच्च न्यायालय की पूर्व न्यायाधीश ऊषा मेहरा को यह पता करने के लिए नियुक्त किया गया है कि क्या घटना के बाद की घटनाक्रम में किसी की खामी या लापरवाही रही।

 
 
 
टिप्पणियाँ